“आवाज़: इक पहचान”

1781337_725937094153706_5224145953112731521_o

She needs no introduction. Legendary singer Lata Mangeshkar has mesmerized the nation for more than seven decades and has sung in over a thousand Hindi films. My little poetic feel for Lata Ji on the behalf of her 85th birthday…

रेशम के धागे की तरह मुलायम
इक आवाज़ हैं जो
गूंज रही हैं सदियों से
कानो में जब पङती हैं
यूँ लगता हैं मानो
रौशनी में नहाई हुई
पूनम की एक रात
फरमाईश कर रही हैं, चाँद से
बस कुछ देर चाँदनी और ठहर जाए

सज़दे में झुकी पलकों की तरह गहरी
इक नदी हैं जो
बह रही हैं सदियों से
कलकल जब करती हैं
यूँ लगता हैं मानो
मौसिक़ी में डूबी हुई
ज़िन्दगी की एक शाम
सिफारिश कर रही हैं, लहरों से
बस कुछ देर सागर और मचल जाए

भोले भाले बच्चों की तरह मासूम
इक लता हैं जो
झूम रही हैं सदियों से
मन को जब छूती हैं
यूँ लगता हैं मानो
आसमां से उतरी हुई
फरिश्तों की एक जमात
नवाज़िश कर रही हैं, रूह पर
बस कुछ देर वक्त यूँही ठहर जाए

पहली बारिश की तरह ख़ुशनुमा
इक एहसास हैं जो
गा रही हैं सदियों से
दिल में जब उतरती हैं
यूँ लगता हैं मानो
सुर में भीगी हुई
नूर की एक बूंद
ग़ुज़ारिश कर रही हैं, सावन से
बस घटाए कुछ देर और बरस जाए
हाँ वोही मखमली आवाज़
जो खुद अपनी पहचान हैं

Advertisements

“इक रात सियाह रंग”

इक रात सियाह रंग
जो वादे से मुकर गयी
वो मिट गयी गुज़र गयी
कल अपने संग ले गयी

धूप मे नहाई है
फूल की हर पंखुड़ी
रात भर जो रोई थी
फिर ओस ने भिगोई है

नई…..सब मंजिले
नया…….सा कारवाँ
ज़िन्दगी तो बस हुई
बंजारों के हमनवाँ

हर सुबह ……एक नशा
खुद की ….. खबर नहीं
ना खुद का निशाँ रहा…

“अक्सर”

1342136758-1372565-5-dfs

हर शख़्स यहाँ एक जैसा नहीं होता
जो दिखता हैं अक्सर वैसा नहीं होता

डोर विश्वास की इक बार जो टूटे तो
जुड़ाव उसमे वो पहले जैसा नहीं होता

ख़्वाबों में अक्सर जो नज़र आता हैं मुझे
हक़ीक़त में वो क्यूँ कभी वैसा नहीं होता

ज़माने के खरीददार बस इतना समझ ले
हर चीज का मोल यहाँ पैसा नहीं होता

प्यार तो वो करते हैं पर उनमें लेकिन
जुनूं चाहतों का क्यूँ मुझ जैसा नहीं होता

यूँ तो रिश्ते कई हैं दुनिया में इरफ़ान
रिश्ता मगर कोई माँ जैसा नहीं होता

“हसरत”

Irfan Single

खुदको पाने की चाहत में
खुद ही से दूर होता गया
चन्द ख्वाबों की हसरत में
हक़ीक़त से दूर होता गया
जाने कितने अरमां जलाये
जलाकर हर दफ़ा फिर से बुझाये
जो ना बुझ सके वो सीने में दफ़नाये…

मुकम्मल होने की चाहत में
मुख़्तसर से दूर होता गया
चन्द वफ़ाओ की हसरत में
दिल ये मजबूर होता गया
जाने कितने अल्फ़ाज़ सजाये
सजाकर हर दफ़ा फिर से मिटाये
जो ना मिट सके वो साँसों में बसाये…

मंज़िल पाने की चाहत में
रास्तों से दूर होता गया
चन्द ख़्यालों की हसरत में
हक़ीक़त से दूर होता गया
जाने कितने एहसास जगाये
जगाकर हर दफ़ा फिर से सुलाये
जो ना सो पाये वो आँखों में छुपाये…

महताब पाने की चाहत में
सितारोँ से दूर होता गया
चन्द ख्वाबों की हसरत में
हक़ीक़त से दूर होता गया…

© रॉकशायर

हसरत – Desire
मुकम्मल – Complete
मुख़्तसर – Brief
महताब – Moonshine

नई शुरुआत

PicsArt_1410718259568

मुख़्तसर सी ज़िन्दगी में, ना हो और मायूस तू
राहें अपनी खुद चुन ले, लगेंगे पर ख़्वाबों को यूँ
उम्मीदों के बादल कबसे, तक रहे हैं रास्ता तेरा
कुछ तो नई शुरुआत कर, ना हो और बरबाद तू

“सैलाब”

10629242_719213671492715_1800679239342813708_o

उजड़ गई वो बस्तियाँ
डूब गई सब कश्तियाँ
पशु, पक्षी, और इन्सान
बह रहे यूँ निर्जीव समान
ज़मीन पर ग़ालिब हुई कुदरत
लगता हैं फिर सैलाब आ गया

हर तरफ पानी ही पानी
कायनात लग रही हैं फ़ानी
नदी, दरिया, और समंदर
बन गए हैं मौत का खंजर
इन्सां के लिए ज़ाहिर हुई इब्रत
लगता हैं फिर सैलाब आ गया

वबा फैली हैं चारों ओर
थम रहा साँसों का शोर
पेड़, जंगल, और पहाड़
बाक़ी बचा केवल उजाड़
आसमां से नाज़िल हुई आफ़त
लगता हैं फिर सैलाब आ गया

जिधर देखों लाशों के ढेर
कहीं सिर नहीं, तो नहीं कहीं पैर
झुग्गी, झोंपड़ी, और मकान
ग़रक़ हो गए खेत और दुकान
आदमी से ख़फ़ा हुई कुदरत
लगता हैं फिर सैलाब आ गया

“अभियंता”

10457372_718528118227937_7160542035547023495_o

विज्ञानं एवं प्रौद्योगिकी का ये संगम
असाधारण कौशल का दृश्य विहंगम

असंभव नहीं कोई भी कार्य इसके लिए
समस्या का निदान करता सबके लिए

अनुसन्धान पथ पर निरंतर ये अग्रसर
राष्ट्रनिमार्ण में अपना जीवन निछावर

मानवता के लिए सदैव देता योगदान
सृजन मार्ग पर प्रशस्त हो उदीयमान

विकास के पहिये की तकनीक हैं जान
अभियंता ज्ञान की उत्कृष्ट हैं पहचान

“हिंदी”

world-hindi-day-Vishwa-Hindi-Diwas-14th-september

हिंद का रहने वाला हूँ, हिंदी से मुझे प्रीत हैं
निर्मलता की परिभाषा, यह मधुर संगीत हैं

शब्दों में प्रवाहित इसके, जीवन का रहस्य
विचारों की अभिव्यक्ति, सरलता का दृश्य

मातृभाषा की उन्नति में, राष्ट्र की उन्नति हैं
फिर क्यूँ आज दयनीय, हिंदी की स्थिति हैं

हिंद के कर्णधारों, निद्रा से अब उठ जाओ
हिंदी के मस्तक पर, फिर से मुकुट सजाओ

गौरव से इसके, साहित्य को पल्लवित करो
राष्ट्रभाषा हैं ये, सदैव इसका अभिनन्दन करो

उर्दू में गर बयां करू, हिंदी से मुझे इश्क़ हैं
तहज़ीब की ज़बान, अदब जिसका मुश्क़ हैं

“सदा-ए-ज़िन्दगी”

reerert

ज़िन्दगी में हर कदम पर ख़ताए हैं बहुत
पर साथ मेरे वालदैन की दुआए हैं बहुत

इश्क़ में डूब जा मगर इतना तू याद रख
ऐतबार-ए-हुस्न में अक्सर सजाए हैं बहुत

ख़ुद से ही भागता रहता हैं वो शातिर
फितरत में खुद जिसकी जफ़ाए हैं बहुत

राह की तकलीफों से मंजिल ना बदल
ज़िस्म पर रूहानियत की वफ़ाए हैं बहुत

जो ना मिला उसका भी शुक्र अदा कर
परवरदिगार की तुझ पर अताए हैं बहुत

गुनाहों के साये से ना डर तू इरफ़ान
अब साथ तेरे ईमान की सदाए हैं बहुत

© RockShayar IrFaN

सदा – Voice
वालदैन – Parents
ऐतबार-ए-हुस्न – Trust of beauties
शातिर – Vicious
फितरत – Habit
जफ़ाए – Deception
रूहानियत – Spirituality
परवरदिगार – Lord

 

शुबा

ख़ातिर बहुत होने लगी हैं आजकल मेरी
शुबा हैं मुझे कहीं मैं दुश्मनो में तो नही

“तख़लीक़”

Stevens_Linda_Journalist

रेंगते रहते हैं सैकड़ों ख़्याल
खुद से सरकशी करते हुए
ख़ामोशी के ज़िस्म पर
फ़तह हासिल करता हैं
बस वो ही एक ख़्याल
सबसे उम्दा, सबसे अफज़ल
दूर कहीं सांस लेती हैं एक तख़लीक़
कई रंग छलकते हैं दामन में जिसके
हयात के सफर की तहरीर समेटे
फिर बयां होता हैं वो सुनहरा दौर
नज़ाकती मफ़हूम का…
तैरने लगते हैं अधजगे अल्फ़ाज़
सरगोशी के बदन पर
नफ़्स से बगावत करते हुए
सबसे ज़ुदा, सबसे बेहतरीन
बस वो ही एक एहसास
शक्ल इख़्तियार करता हैं
फिर आँखे खोलती हैं दूर कहीं एक तख़लीक़
कई रंग महकते हैं तफ़सीर में जिसके
रूह के शऊर की तसवीर लपेटे
और बयां होता हैं उन यादोँ का दौर
महफूज़ हैं जिनमें नज़्म के क़तरे
वही नज़्म जो खुद एक तख़लीक़ हैं

© RockShayar

1. सरकशी – Contumacy
2. फ़तेह – Victory
3. अफज़ल – Better
4. तख़लीक़ – Creation
5. हयात – Life
6. तहरीर – Manuscript
7. नज़ाकती – Sensitive
8. मफ़हूम – Essence
9. सरगोशी – Whisper
10. नफ़्स – Self
11. इख़्तियार – Construct
12. तफ़सीर – Interpretation
13. शऊर – Etiquette
14. महफूज़ – Secure
15. नज़्म – Poem

“बातिल”

531955504 104018-01-02

बारूद के ढेर पर सज रही इक महफ़िल
सरताज़ बनकर जहाँ बैठा अब बातिल

शक़्ल-ओ-सूरत इन्सां सी लगे मगर
ईमान से कबका हो चुका वो ग़ाफ़िल

ताउम्र बस नफ़रत के शोले भड़काए
रहनुमा नहीं वो कोई, हैं इक बुज़दिल

ज़हन में भरा जिसने मज़हबी फ़ुतूर
वो ज़ाहिल अब कहलाता हैं फ़ाज़िल

सुन कभी मासूम ज़िंदगी की पुकार
मत हो गुनाहों के दलदल में शामिल

अब भी गर ना समझें आदमज़ाद तो
ख़ुदा का क़हर ही होगा यहाँ नाज़िल

“उस्ताद “

 

Happy-Teachers-Day-Greeting-2013
लफ़्ज़ों में बयां ना हो सके वो
मर्तबा कुछ इस कदर बुलन्द हैं
इल्म से ज़िन्दगी संवारता जो
किरदार खुद उसका रोशन हैं
तालीम की मशाल थामे हुए
जहालत का अँधेरा मिटाता हैं
किताबों की दुनिया के साथ साथ
शागिर्द को खुद से रूबरू कराता हैं
मायूसी में इक उम्मीद जगाकर
निरंतर बढ़ना सिखलाता हैं
सबसे बेहतरीन शख़्सियत वो
अदब से जिन्हे पुकारा जाता हैं
गुरु, शिक्षक, उस्ताद, टीचर
ये अल्फ़ाज़ सभी कम लगते हैं
सारी इन्सानियत का रहबर वो
तहज़ीब खुद जिसका सरमाया हैं

© RockShayar

“ख़ुशबू का वो झोंका”

3D10

ख़ुशबू का वो झोंका
कल साँझ ढले
साँसों की डोर थामे हुए
हौले हौले से यूँ
उतर गया इस रूह में
ना कोई शोर हुआ
ना कोई बेचैनी थी
बस इक नील समंदर
जम सा गया मुझमें कहीं…
एहसास का वो नूर
कल रात ढले
पलकों की डोर थामे हुए
धीमे धीमे से यूँ
उतर गया इन आँखों में
ना कोई ख़्वाब टूटा
ना कोई बेदारी थी
बस इक सर्द बवंडर
थम सा गया मुझमें कहीं…

© RockShayar

“मैं अब बदलने लगा हूँ”

CYMERA_20140621_180058ffjlhj

तन्हा राहों पर बेफ़िक्र होकर चलने लगा हूँ
वक्त के साथ साथ मैं अब बदलने लगा हूँ

पिघलाकर ज़िस्म की सब बेजा ख़्वाहिशें
रूह की तपिश में धीमे धीमे जलने लगा हूँ

मायूसी का साया कहीं नज़र आता नहीं
हालात के मुताबिक अब जो ढलने लगा हूँ

तसव्वुर की स्याही में यूँ कलम डुबोकर
कागज़ पर सब्ज़ एहसास उगलने लगा हूँ

सुनकर वज़ूद की वो आख़िरी गुज़ारिश
बर्बाद होते होते फिर से सम्भलने लगा हूँ

दर्द से ख़ुद को ज़ुदा करने की ख़्वाहिश में
ज़िन्दगी से बाहें खोलें अब मिलने लगा हूँ