“कुछ बातें अनकही”

तेरे-मेरे दरमियान कुछ बातें अनकही रह गयी
आँखों में छुपी वो ख़ामोशी बहुत कुछ कह गयी

बहुत कुछ कहकर भी, कुछ नहीं कहा हमने
जो कुछ कहा हमने, वो सब कहीं था दिल में

जो आवाज़ हमने सुनी, वो आवाज़ हमारे दिल की थी
वो आवाज़ हमारे दिल की, अपनी आँखों से हमने सुनी

एक-दूसरे को चाहकर भी ना भुला पाये हम
एक-दूसरे को चाहकर भी ना बता पाये हम

के एक-दूसरे को कितना चाहते हैं हम
एक-दूजे से कितना झूठ बोलते हैं हम

झूठ भी ऐसा, के जो झट से पकड़ में आ जाये वैसा
प्यार भी ऐसा, के ना किया हो कभी किसी ने जैसा

तेरे-मेरे बीच कुछ अल्फ़ाज़ अनकहे रह गये
आँखों में छुपे वो जज़्बात बहुत कुछ कह गये

जो अल्फ़ाज़ हमने पढ़े, वो अल्फ़ाज़ हमारे दिल के थे
वो अल्फ़ाज़ हमारे दिल के, अपनी आँखों से हमने पढ़े।

RockShayar⁠⁠⁠⁠

Advertisements

“तो तस्वीर कुछ और ही होती”

हमारा मिलना-बिछुड़ना तो तक़दीर का लिखा है
जो हम साथ रह पाते, तो तस्वीर कुछ और ही होती।

सालों से तुम्हारा इंतज़ार, और उस पर दिल ये बेक़रार
गर हम एक हो जाते, तो तस्वीर कुछ और ही होती।

एक दूसरे को बहुत चाहते थे, हम कमियां और ख़ूबियां जानते थे
जो जज़्बात जताते हम, तो तस्वीर कुछ और ही होती।

अपने हिस्से का दर्द हमने, ना बताया कभी, ना जताया कभी
गर ग़म ना छुपाते हम, तो तस्वीर कुछ और ही होती।

बिन पूछे सब जान लेना, एक दूसरे को मान देना
जो नज़रें मिला लेते हम, तो तस्वीर कुछ और ही होती।

जमाने की दीवार खड़ी थी, और ज़िंदगी ज़िद पर अड़ी थी
गर बंदिशें तोड़ जाते हम, तो तस्वीर कुछ और ही होती।

अफ़साना अपनी मोहब्बत का, कुछ यूँ लिखा हमने इरफ़ान
जो हम पहले मिल जाते, तो तस्वीर कुछ और ही होती।।

RockShayar.wordpress.com

“फिर से वहीं ले आयी ज़िन्दगी”

फिर से वहीं ले आयी ज़िन्दगी
जहाँ ना आने की कसम थी खायी।

हालाँकि यह एहसास होने में बहुत वक़्त लगा
हर एक एहसास को खोने में बहुत वक़्त लगा।

एक शाम साहिल से बहुत दूर निकल गया समंदर
लौटा जब तक वो, ढ़ह चुका था उसका रेत का घर।

लहरों से कई दिनों तक नाराज़ रहा वो
गुमसुम सा महीनों बेआवाज़ रहा वो।

कितनी ही कश्तियाँ उसके ऊपर से गुज़र गयी 
वो फिर भी ख़ामोश सा एक जगह ठहरा रहा।

आखिरकार एक नदी ने अपना रुख़ मोड़ा
मुश्किल से दिल का रिश्ता जोड़ा।

फिर से वहीं ले आयी ज़िन्दगी
जहाँ ना आने की कसम थी खायी।

हालाँकि यह समझने में बहुत वक़्त लगा
हर एक याद को मिटने में बहुत वक़्त लगा।।

#राॅकशायर

“तेरी परछाई संभाल कर रखी है मैंने”

तेरी परछाई संभाल कर रखी है मैंने
पता था कि अंधेरा घना होने वाला है

तुम्हे ख़बर नहीं थी मेरे आने की
मगर मुझे ख़बर थी तेरे जाने की

वो पल, जो पल भर के लिए हम को मिले थे
न उनमें कोई शिकवे थे, न उनमें कोई गिले थे

तेरी आवाज़ सहेज कर रखी है मैंने
पता था कि ख़ामोशी कायम होने वाली है

तुमने कभी बताया नहीं, कि कौन हो तुम
तफ़्तीश करता रहा, मैं ज़िन्दगी भर यही

इस बार जब मुलाक़ात होगी, तो पूछूँगा
इस मुलाक़ात में कितने अलविदा छुपे हैं

हर बार यह अलविदा मेरी जान ही ले लेता है
पता नहीं कब इसके मुँह, मेरा खून लग गया

तेरी तस्वीर संभाल कर रखी है मैंने
पता था कि याददाश्त जाने वाली है।।

#RockShayar

“जब भी मुझे तुम्हारी याद आती है, तब ये याद आता है”

जब भी मुझे तुम्हारी याद आती है, तब ये याद आता है
के तुम्हें याद करते-करते, ये मन कहीं दूर चला जाता है।

जहाँ से फिर लौटकर आना मुमकिन नहीं होता है
और जिसे भूल जाना इतना आसान नहीं होता है।

आसान होता है तो सिर्फ उन यादों को याद रखना
मुमकिन होता है तो सिर्फ उन यादों को याद करना।

जब भी मुझे तुम्हारी याद आती है, तब ये याद आता है
के तुम्हें याद करते-करते, ये दिल कहीं पर खो जाता है।

जहाँ से फिर खुद को ढूँढ लाना मुमकिन नहीं होता है
और जिसे छोड़कर जाना इतना आसान नहीं होता है।

आसान होता है तो सिर्फ उस दर्द को महसूस करना
मुमकिन होता है तो सिर्फ उस दर्द को महफ़ूज़ रखना।

जब भी मुझे तुम्हारी याद आती है, तब ये याद आता है
के तुम्हें याद करते-करते, ये मन मेरा बंजारा हो जाता है।

जहाँ पे फिर मन पर काबू रखना मुमकिन नहीं होता है
और मन को मना कर देना इतना आसान नहीं होता है।

आसान होता है तो सिर्फ अपने मन की आह सुनना
मुमकिन होता है तो सिर्फ अपने मन की राह चुनना।

जब भी मुझे तुम्हारी याद आती है, तब ये याद आता है
के तुम्हें याद करते-करते, ये मन कहीं दूर चला जाता है।

RockShayar.wordpress.com

“बिन तेरे ख़यालों का क्या करूँ”

मुझे नहीं पता कि मैं क्या करूँ
बिन तेरे ख़यालों का क्या करूँ।

मुझे नहीं पता कि मैं क्या कहूँ
बिन तेरे लफ़्ज़ों को कैसे लिखूँ।

मुझे नहीं पता कि तुम किस गली में रहती हो
मुझे इतना पता है कि तुम मुझमें ही रहती हो।

मुझे नहीं पता कि तुम मुझे कितना चाहती हो
मुझे इतना पता है कि तुम उड़ना चाहती हो।

मुझे नहीं पता कि तुम मेरे बारे में क्या सोचती हो
मुझे इतना पता है कि तुम कुछ अच्छा सोचती हो।

मुझे नहीं पता कि तुम मेरे मन की डायरी पढ़ती हो 
मुझे इतना पता है कि तुम मेरी हर शायरी पढ़ती हो।

मुझे नहीं पता कि तुम्हें सच कैसे पता चलेगा
मुझे इतना पता है कि तुम्हें जल्द पता चलेगा।

जिस रोज़ पता चल जाये, दौड़ी चली आना
उस रोज़ ना चलेगा जानाँ, फिर कोई बहाना।

तब मुझे पता चलेगा कि मैं क्या हूँ
तब मुझे पता चलेगा कि मैं तेरा हूँ।

तब मुझे पता चलेगा कि मैं क्या कहूँ
लफ़्ज़ों के लबों पे नाम तुम्हारा लिखूँ।

मुझे नहीं पता कि मैं क्या करूँ
बिन तेरे अब अपना क्या करूँ।

मुझे नहीं पता कि मैं क्या कहूँ
बिन तेरे एक लम्हा कैसे जिऊँ।।

“इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी”

खुली-खुली वो तेरी गीली जुल्फ़ें
झुकी-झुकी वो तेरी नीली पलकें
मीठी-मीठी वो तेरी प्यारी बातें
याद करके जिन्हें गुज़री मेरी रातें
दिल पूछता है बार-बार यही सवाल
के इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी
दिल से दिल की सीधी बात कब होगी
इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी।

तुझे देखा तो बस देखता ही रह गया
तेरी लहर के संग-संग मैं भी बह गया
क़तरा भी ना बाक़ी मुझमें मैं रह गया 
एहसास हुआ के तुमसे इश्क़ हो गया
दिल पूछता है बार-बार यही सवाल
के इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी
दिल से दिल की सीधी बात कब होगी
इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी।

दिलनशीं वो तेरी शोख़ अदाये
दिलकशीं वो तेरी होश उड़ाये
खुशबू वो तेरी मुझको महकाये
देखना चाहे तुझको मेरी निगाहें
दिल पूछता है बार-बार यही सवाल
के इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी
दिल से दिल की सीधी बात कब होगी
इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी।

जादूभरी वो तेरी मनपसंद बातें 
जादूगरी वो तेरी मुहरबंद यादें
जादू जैसी वो तेरी नज़रबंद आँखें
देखकर जिन्हें जी उठती मेरी साँसें
दिल पूछता है बार-बार यही सवाल
के इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी
दिल से दिल की सीधी बात कब होगी
इस बार फिर मुलाक़ात कब होगी।।

“जिस रिश्ते में यकीन न हो वो रिश्ता हमने तोड़ दिया है”

परवाह करना छोड़ दिया है
अपने हाल पर उन्हें छोड़ दिया है।

जिस रिश्ते में यकीन न हो
वो रिश्ता हमने तोड़ दिया है।

पथरीली राहों पर चलते-चलते
ज़िंदगी को नया मोड़ दिया है।

वक़्त ने मरहम लगा लगाकर
दिल को फिर से जोड़ दिया है।

नहीं भूले उस हादसे को अब तक
रूह को जिसने निचोड़ दिया है।

नफ़रत के काबिल है वो तो 
यक़ीन को जिसने तोड़ दिया है।

मेरे सवालों का जवाब दे ऐ ज़िंदगी
तूने मुझे अधमरा क्यों छोड़ दिया है।।

“हर बार की तरह इस बार भी बहुत दूर हैं हम”

हर बार की तरह इस बार भी बहुत दूर हैं हम
हर बार की तरह इस बार भी बहुत मज़बूर हैं हम।

दूर जाने की चाहत, न तुम्हे है न मुझे है
पास न आने की हसरत, न तुम्हे है न मुझे है।

कोशिश ने भी अब तो कोशिश करना छोड़ दिया है
दिल के बेइरादा इरादे समझ चुकी है वो।

लेकिन हम हैं कि समझने को तैयार नहीं
आवारा मन हैं कि बदलने को तैयार नहीं।

हर बार की तरह इस बार भी वही गलती दोहरायेंगे हम
हर बार की तरह इस बार भी खुद को भूल जायेंगे हम।

गलती सुधारने की चाहत, न तुम्हे है न मुझे है
गलती न करने की हसरत, न तुम्हे है न मुझे है।

उम्मीद ने भी अब तो उम्मीद का साथ छोड़ दिया है
दिल के बेपरवाह इरादे समझ चुकी है वो।

लेकिन हम हैं कि समझने को तैयार नहीं
आवारापन हैं कि बदलने को तैयार नहीं।

हर बार की तरह इस बार भी वही भूल दोहरायेंगे हम
हर बार की तरह इस बार भी खुद को भूल जायेंगे हम।

यादों से मिटाने की चाहत, न तुम्हे है न मुझे है
दोबारा न मिलने की हसरत, न तुम्हे है न मुझे है।

किस्मत ने भी अब तो किस्मत का साथ छोड़ दिया है
दिल के बेमिसाल बहाने समझ चुकी है वो।

लेकिन हम हैं कि समझने को तैयार नहीं
बंजारापन हैं कि बदलने को तैयार नहीं।

मगर इस हर बार की तरह नहीं कुछ अलग होगा
मोहब्बत हो गयी है, सो दुश्मन ये सारा जग होगा।

अब जुदा-जुदा जीने की चाहत, न तुम्हे है न मुझे है
मोहब्बत में न लुटने की हसरत, न तुम्हे है न मुझे है।

ज़िंदगी ने भी अब तो ज़िंदगी का हाथ थाम लिया है
दिल के बेपनाह इरादे समझ चुकी है वो।

इसीलिए तो अब हम बहुत दूर रहने को तैयार नहीं
इसीलिए तो अब हम यह दूरी सहने को तैयार नहीं।।

@RockShayar⁠⁠⁠⁠

“कई दिनों से एक ख़याल अधूरा पड़ा था”

ज़ेहन के पुराने हिस्से में
कई दिनों से एक ख़याल अधूरा पड़ा था।

सोचा इसे आज पूरा कर दूँ
तुम कहो तो इसे तुम्हारे नाम कर दूँ।

इसी बहाने तुम्हारा ज़िक़्र भी हो जायेगा
ज़िक़्र के दरमियाँ कहीं ये दिल खो जायेगा।

याद है तुम्हे !
तुम्हारी यादों से पुराना रिश्ता है मेरा।

एक ऐसा रिश्ता जिसका कोई नाम नहीं
एक ऐसी सुबह जिसकी कोई शाम नहीं।

एक ऐसा शख़्स जिसका कोई मकसद नहीं
एक ऐसा लफ़्ज़ जिसका कोई मतलब नहीं।

एक ऐसी लहर जिसका कोई शोर नहीं
एक ऐसी नज़र जिसका कोई छोर नहीं।

ज़ेहन के पुराने हिस्से में
कई दिनों से एक ख़याल अधूरा पड़ा था।

सोचा इसे आज पूरा कर दूँ
तुम कहो तो इस दिल पे तुम्हारा नाम लिख दूँ।

इसी बहाने तुम्हारा एहसास भी हो जायेगा
एहसास करते-करते कहीं ये दिल खो जायेगा।

याद है तुम्हे !
तुम्हारी बातों में अपना हिस्सा है मेरा।

जो यक़ीन न आये मेरी बात पर
तो खुद से बात करके देख लेना
जवाब मिल जायेगा तुम्हे
और जवाब के साथ-साथ
मेरी साँसों का हिसाब भी मिल जायेगा तुम्हे।

जो दूर जाना चाहो
तो शौक से चले जाना
मोहब्बत का कर्ज़ उतारने
करके खुद से नये बहाने
दिल को फिर आज़्माने
ख़ताएं फिर से दोहराने
यादों को फिर से मिटाने
सीने के दरमियाँ समाने।

जो पास आना चाहो
तो दिल से चले आना
जहां कहीं भी हो तुम
लौटकर चले आना।।⁠⁠⁠⁠

“यह उन दिनों की बात है, जब मैं एक टीचर हुआ करता था”

यह उन दिनों की बात है
जब मैं एक टीचर हुआ करता था
ये उस वक़्त के जज़्बात हैं
जब मैं खुद जीना सीख रहा था

हरवक़्त बच्चों पर अपना रौब जमाया करता था
अपने स्टूडेंट्स में अपने आप को ढूँढा करता था

यह उन दिनों की बात है
जब मैं एक टीचर हुआ करता था
ये उस वक़्त के हालात हैं
जब मैं खुद को तलाशा करता था

पढ़ाई के साथ-साथ, हँसी मज़ाक भी किया करता था
लेक्चर पूरा होने पर ही मगर, अटेंडेंस लिया करता था

यह उन दिनों की बात है
जब मैं एक टीचर हुआ करता था
ये उस वक़्त के जज़्बात हैं
जब मैं खुद से ही नाराज़ रहता था

टॉपिक हो चाहे कोई भी, उसे मजेदार बना दिया करता था
प्रिंसिपल प्रॉक्टर या हो एचओडी, किसी से नहीं डरता था

यह उन दिनों की बात है
जब मैं एक टीचर हुआ करता था
ये उस वक़्त के हालात हैं
जब मैं एक मुश्किल दौर से गुज़र रहा था

स्टूडेंट्स पर फाइलों का बोझ लाद दिया करता था
और अपने काॅलेज के वो दिन याद किया करता था

यह उन दिनों की बात है
जब मैं एक टीचर हुआ करता था
ये उस वक़्त की याद हैं
जब मैं खुद से सवाल किया करता था

एजुकेशनल ट्यूर को बहुत इंजॉय किया करता था
बच्चों के साथ मिलकर उनके जैसे जिया करता था

यह उन दिनों की बात है
जब मैं एक टीचर हुआ करता था
ये उस वक़्त के लम्हात हैं
जब मैं खुद में ही उलझा रहता था

गुस्सा होने पर रेगुलर लंबी क्लास लिया करता था
ज़रा-ज़रा सी बात पर, बहुत डाँट दिया करता था

यह उन दिनों की बात है
जब मैं एक टीचर हुआ करता था
ये उस वक़्त के हालात हैं
जब मैं अपने वज़ूद के लिये लड़ रहा था

अब ना वो पहले जैसे हालात हैं
ना वो पहले जैसे जज़्बात
ना वो पहले जैसे मोमेंट हैं
ना वो पहले जैसे स्टूडेंट।

@Irfan Ali Khan⁠⁠⁠⁠

“मैं अब भी तुझको चाहता हूँ”

सबसे अब ख़फ़ा होकर
खुद से खुद ज़ुदा होकर
इश्क़ में तेरे फ़ना होकर
आवारा इक हवा होकर
संग तेरे ही अब बहना चाहता हूँ
जानाँ ये तुझसे कहना चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ।

रब की रहमत अता होकर
अपने घर का पता खोकर
दिल से निकली दुआ होकर
दर्द की तदबीर दवा होकर
संग तेरे ही अब जीना चाहता हूँ
जानाँ ये तुझसे कहना चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ।

ख़्वाब में तुझको देखकर
ख़याल में तुझको सोचकर
दिल में हसरतें पालकर
आँखों में आँखें डालकर
जाम तेरा ही अब पीना चाहता हूँ
जानाँ ये तुझसे कहना चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ।

खुद में खुद को खोकर
तुझमें खुद को पाकर
नहीं है दिल ये बेघर
तुझको दिल ये देकर
तुझमें ही अब धड़कना चाहता हूँ
जानाँ ये तुझसे कहना चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ।।

@RockShayar⁠⁠⁠⁠

“लौटकर तो सिर्फ यादें आती हैं, कभी वो वक़्त नहीं”

1014167_152440558282239_589204630_n.jpg

लौटकर तो सिर्फ यादें आती हैं, कभी वो वक़्त नहीं
उसकी कही बातें याद आती हैं, अब वो शख़्स नहीं।

सिर्फ पढ़ने से ही जिसे, जग उठे वो एहसास फिर से
ज़िंदगी सब कुछ लिख देती हैं, मगर वो लफ़्ज़ नहीं।

कह गये वो शायर सयाने, इश्क़ के जो थे दीवाने
मिल जाये जो बड़ी आसानी से, असल वो इश्क़ नहीं।

शिद्दत और मेहनत, शर्त यही के दोनों साथ हो
फिर पूरी न की जा सके जो, ऐसी तो कोई शर्त नहीं।

साये की किस्मत है, सुबह से शाम चलना और ढ़लना
धूप का तिलिस्म है ये तो, साये का अपना कोई अक्स नहीं।

ज़ईफ़ जिस्म का नहीं, जवां रूह का हुस्न है मोहब्बत
देखकर जिसे खुद नैन कहे, कभी देखा ऐसा नक्श नहीं।

वक़्त की बेवक़्त ख़ामोशी का, बयान है यह तो इरफ़ान
एक वक़्त के बाद सब लौट आते हैं, मगर वो वक़्त नहीं।।

http://www.rockshayar.wordpress.com⁠⁠⁠⁠

“पहली नज़र का वो असर, अब तक याद है”

पहली नज़र का वो असर, अब तक याद है
नज़रों से नज़रों का सफ़र, अब तक याद है।

इक़रार इंकार तक़रार ऐतबार, और फिर प्यार
जज़्बातों का वो जादुई सफ़र, अब तक याद है।

ख़यालों की एक नदी, यादों के जंगल में बहती थी
एहसास की वो ऊँची लहर, अब तक याद है।

ख़्वाबों का घर लगता था, नहीं जहाँ पर डर लगता था
उम्मीदों का वो उम्दा शहर, अब तक याद है।

कई चेहरे देख लिये, सब रंग सुनहरे देख लिये
पर वो एक चेहरा शाम-ओ-सहर, अब तक याद है।

यादें हैं कि मिटती नहीं, रातें हैं कि कटती नहीं
ज़िंदगी की वो कड़ी दोपहर, अब तक याद है।

नफ़रत जिसके सामने, ज्यादा देर टिक न पाये
मोहब्बत तेरी वो इस क़दर, अब तक याद है।।

http://www.rockshayar.wordpress.com⁠⁠⁠⁠

“तुझे भुलाना ही नहीं चाहता हूं मैं”

तुझे अब तक नहीं भुला पाया मैं
तुझे भुलाना ही नहीं चाहता हूं मैं।

हररोज मुझको तेरी याद आती है
तुझे रोज याद करना चाहता हूं मैं।

बात चाहे कोई भी हो कैसी भी हो
एक तेरी ही बात करना चाहता हूं मैं।

ज़िंदगी के सुहाने सफ़र में हमसफ़र
ज़िंदगीभर तेरे साथ रहना चाहता हूं मैं।

तेरे बिन जीना जानाँ मुमकिन नहीं मेरा
तुझसे मिलकर यह कहना चाहता हूं मैं।

दरिया हो तुम, जीने का ज़रिया हो तुम
किनारा बनकर संग बहना चाहता हूं मैं।

ज़िंदगी की धूप में ज़िंदगी जल गयी मेरी
तेरे आँगन की छाँव में सोना चाहता हूं मैं।।

“तेरा मुझ से दूर होना”

तेरा मुझ से दूर होना
मुझे यूँ लगता है
जैसे मेरा खुद से दूर होना।

तेरा मुझ में शामिल होना
मुझे यूँ लगता है
जैसे मेरा खुद में शामिल होना।

तेरा मुझ पे ऐतबार होना
मुझे यूँ लगता है
जैसे मेरा खुद पे इख़्तियार होना।

तेरा मुझ को खुशियाँ देना
मुझे यूँ लगता है
जैसे मेरा खुद को पा लेना।

तेरा मुझ से ज़ुदा होना
मुझे यूँ लगता है
जैसे मेरा खुद से ज़ुदा होना।

तेरा मुझ में साँस लेना
मुझे यूँ लगता है
जैसे मेरा खुद में ज़िन्दा रहना।

तेरा मुझ पे यक़ीन होना
मुझे यूँ लगता है
जैसे मेरा खुद पे यक़ीन होना।

तेरा मुझ को बेपनाह चाहना
मुझे यूँ लगता है
जैसे मेरा खुद को बेपनाह चाहना।।

“ज़िंदगी का बेनज़ीर वो लुत्फ़ हो तुम”

ज़िंदगी की घनेरी कोई जुल्फ़ हो तुम
ज़िंदगी का बेनज़ीर वो लुत्फ़ हो तुम।

जिसे लिखने के बाद, मिले खूब दाद
ग़ज़ल का ऐसा कोई लफ़्ज़ हो तुम।

नज़र से लेकर जिगर तक क्या कहूँ
टूट नहीं सकता वो तिलिस्म हो तुम।

सुनकर जिसे महसूस करने लगे हम
जानाँ गुलज़ार की वो नज़्म हो तुम।

तोड़ने से टूटे ना, छोड़ने से छूटे ना
निभाना लाज़िम जिसे वो रस्म हो तुम।

मैं शायर गुमनाम अंधेरी गलियों का
अदीबों की बाअदब बज़्म हो तुम।

दीदार किया तो पता ये चला इरफ़ान
मोहब्बत का मासूम अक्स हो तुम।।

“मेरा हरसफ़र मुझको फिर से तेरे शहर ले आता है”

तेरे साथ बिताया वक़्त बड़ी जल्दी गुज़र जाता है
मेरा हरसफ़र मुझको फिर से तेरे शहर ले आता है।

रास्तेभर यही सोचता हूं कि अब आगे क्या?
ज़िंदगी से कुछ लम्हे चुराकर भागे क्या?

याद न करने के बहाने से तुम्हे याद कर लेता हूं
मैं नज़रों से दिल की बेचैनी आज़ाद कर देता हूं।

वक़्त के साथ-साथ वक़्त की सिफ़त बदल जाती हैं
बदलते-बदलते इसकी हरएक आदत बदल जाती हैं।

दूरियों के दरवाज़े अक्सर बड़ी देर से खुलते हैं
पर मज़बूरियों के मकान बड़ी जल्दी बन जाते हैं।

ज़ेहन की परछाई से परे होते हैं जज़्बात
दिल की गहराई से जुड़े होते हैं जज़्बात।

अगर एहसास है धागा तो यह मन अपना चरखा हैं
उम्मीद की उँगलियों से हमने दिल को थाम रखा हैं।

तेरे साथ गुज़ारा वक़्त बहुत जल्दी गुज़र जाता है
मेरा हरसफ़र मुझको फिर से तेरे शहर ले आता है।।⁠⁠⁠⁠

“पहले तो तेरा ख़याल ही काफ़ी था, जीने के लिये”

561302_114215078775715_1569776330_n

पहले तो तेरा ख़याल ही काफ़ी था, जीने के लिये
और अब तेरा ख़याल भी नाकाफ़ी है, जीने के लिये।

वो गुज़ारिश जो थी मेरी, वो अब भी अधूरी है
वो नवाज़िश जो थी तेरी, वो अब भी ज़रूरी है।

जो दिल से दिल मिल जाते, तो क्या बात होती
जो हमारे दिल मिल जाते, तो क्या बात होती।

पहले तो तुम तसव्वुर पर खूब बंदिशें लगाती थी
और अब तुम हो कि तसव्वुर में भी नहीं आती हो।

वो सवाल जो था मेरा, वो अब भी वही है
वो जवाब जो था तेरा, वो अब भी नहीं है।

जो लब से लब मिल जाते, तो क्या बात होती
जो हमारे चेहरे खिल जाते, तो क्या बात होती।

पहले तो तुम बेनज़ीर सी बहुत वो बातें करती थी
और अब तुम हो कि ज़रा भी नहीं याद करती हो।

वो अंदाज़ जो था मेरा, वो अब भी वही है
वो एहसास जो था तेरा, वो अब भी वही है।

जो मन से मन मिल जाते, तो क्या बात होती
जो हम दोनों खिल जाते, तो क्या बात होती।।⁠⁠⁠⁠

“न मुझे इख़्तियार दिया, न मेरा इंतज़ार किया”

न मुझे इख़्तियार दिया, न मेरा इंतज़ार किया
ऐ ज़िंदगी तूने मेरा, क्यों कभी ऐतबार न किया।

मैं मनाता ही रहा, तू रूठती चली गयी
खुद को ढूँढ़ते हुये, बड़ी दूर चली गयी।

वक़्त के वो धारे, जो कि अब धुंधले हो चुके हैं
एहसास की उस नदी में, रेत बनकर जम चुके हैं।

मुसाफ़िर आज भी मिलते हैं, अनजान सफ़र में
हसरतों के आशियाँ लिये हुये, आँखों के घर में।

ऐतबार करना मगर, अब भी बहुत मुश्किल है
तब से लेकर अब तक, सहमा हुआ ये दिल है।

ज़िंदगीभर ऐ ज़िंदगी, मुझको तेरा इंतज़ार ही रहा
मैं जितना पास आता गया, तू उतना दूर होती गयी।

छुप कर बैठी है कहीं, क्यों गर्दिशो में तू अब भी
कभी तो झांक इधर, मैं तन्हा खड़ा हूं अब भी।

सुना है ! कई रंगो से मिलकर बनी है तू
वो सुनहरे सपने तेरे, मुझे कब दिखाएगी तू।

ज़िंदगी तुझसे मेरा, अब वो पहले जैसा रिश्ता न रहा
तू यादें मिटाती चली गयी, मैं फर्यादें लिखता ही रहा।।⁠⁠⁠⁠

“आज फिर से बहुत तेज़ बारिश हो रही है”

आज फिर से बहुत तेज़ बारिश हो रही है
आसमाँ से ज़मीं की सिफ़ारिश हो रही है।

आज फिर से जीने की ख़्वाहिश हो रही है
दिल से दिल की वही गुज़ारिश हो रही है।

आज फिर से ज़िन्दगी मदहोश हो रही है।
हौले-हौले खुद ये अपना होश खो रही है।

आज भी मैं बरसते हुए मौसम का आवारा बादल हूं
आज भी मैं उफनते हुए सागर का बंजारा साहिल हूं।

जब भी तुम मेरे आस-पास होती
बारिश शुरू होने लग जाती।

इशारा था वो कायनात का
फ़साना था वो जज़्बात का।

मैं जिसे बखूबी समझ जाता, मगर तुम बहुत डरती थी
भीगने से, इश्क़ में डूबने से, इसलिए दूर-दूर रहती थी।

आज फिर से वही पहले जैसी बारिश हो रही है
आज फिर से ये कायनात कोई इशारा दे रही है।

आज फिर से बहुत तेज़ बारिश हो रही है
आज फिर से जीने की ख़्वाहिश हो रही है।।

rockshayar.wordpress.com⁠⁠⁠⁠

“गर ज़मीं पर कहीं जन्नत है तो बस यहीं है, यहीं है”

Kashmirvalley.jpg

 

“गर फिरदौस बर-रूऐ ज़मीं अस्त
हमी अस्तो, हमी अस्तो, हमी अस्त”

When you read it…You just feel it…

वादियों का दिलकश जहाँ, जैसे ख़्वाब कोई हसीं है
गर ज़मीं पर कहीं जन्नत है तो बस यहीं है, यहीं है।

कांपती हुई कायनात ने, धुंध की चादर ओढ़ रखी है
बर्फीले कोहसारों में, इश्क़ की अंगीठी सुलग रही है।

देखों तो सही, डल झील में तैर रहे हैं कई शिकारे
ऐसे में कोई अपना दिल, बताओ तो कैसे ना हारे।

सुर्ख़ चिनार के वो शादाब शजर, मुस्कुराते हुए नज़र आते हैं
गुलमर्ग से लेकर पहलगाम तक, गुनगुनाते हुए नज़र आते हैं।

निशात हो या शालीमार, चमन में तो गुल खिलते हैं
दौर-ए-खिज़ा में अक्सर यहाँ, पत्तों के रंग बदलते हैं।

दरिया-ए-झेलम का पानी, अपनी कहानी कह रहा है
कई बरस बीत चुके हैं, मुसल्सल ख़ामोश बह रहा है।

अस्सार-ए-शरीफ़ जहां पर, महफूज़ मो-ए-मुक़द्दस है
हज़रतबल दरगाह तो बेहद, पाकीज़ा और मुक़द्दस है।

फ़िज़ाओं में बसी वो बेनज़ीर, जैसे कोई माहज़बीं है
गर ज़मीं पर कहीं जन्नत है तो बस यहीं है, यहीं है।।

:-RockShayar

“तुझ को भुलाने की, हर नाकाम कोशिश कर चुका हूँ”

A  Walk To Remember 001.jpg

 

तुझ को भुलाने की, हर नाकाम कोशिश कर चुका हूँ
और हर उस कोशिश को, नाकाम भी मैं ही बनाता हूँ।

बहुत दिनों से मैंने, अपने अंदर एक समंदर छुपा रखा है
दिल के किसी कोने में, तेरी यादों का बवंडर दबा रखा है।

तुम से मुलाक़ात के वक़्त, बस यही ध्यान रखता हूँ मैं
कि तुम्हारे भीतर जो तुम हो, उससे मुलाक़ात हो जाए।

कई बार इस बारे में सोचा है मैंने, कि तुम से ना मिलू
लेकिन हरबार यही लगता है, के आख़िर क्यों ना मिलू।

याद है पिछली दफा, जब तुम मुझ से मिलने आई थी
कई दिनों तक ये ज़िन्दगी, मुसलसल मुस्कुराई थी।

तेरे जाने के बाद, जीना बहुत मुश्किल होता है
तुझे याद कर करके, ये दिल महीनो तक रोता है।

सोच रहा हूँ इस बार तुम्हे, अपनी आँखों में क़ैद कर लू
भूलने से पहले इकदफा तुम्हे अच्छी तरह याद कर लू।

सफ़र में यूँही चलते-चलते, आखिरकार हम मिल ही गए
एक लम्हे के लिए ही सही, आखिरकार हम मिल ही गए।।

“राब्ता”

vlcsnap-2013-07-08-23h42m43s41.png
कभी-कभी लगता है तुम से, सदियों पुराना कोई वास्ता है
अधूरा है अब तक एहसास कोई, रुह का रूह से ये राब्ता है।
 
न तूने मुझे अपनाया कभी, न मैंने तुझे ठुकराया कभी
मैं जितना याद करता रहा, तू उतना मुझे भुलाती गई।
 
कैसा अजब ये रिश्ता है, दिलों के दरमियां जो पिसता है
न तुम समझ पाए कभी, न हम समझ पाए कभी।
 
मुझ से ज्यादा तुम्हे मेरी, मोहब्बत से मोहब्बत रही हमेशा
और तुम्हे सोचते ही मुझे वो, सुकून-ओ-राहत मिली हमेशा।
 
न तूने मुझे तड़पाया कभी, न मैंने तुझे तरसाया कभी
मैं जितना दर्द छुपाता रहा, तू उतना बेख़बर होती गई।
 
अजीब हालात के चलते, ये ज़िन्दगी भी अजीब हुई
एक पल को अमीर होकर, अगले ही पल ग़रीब हुई।
 
अब ना कहीं तू नज़र आती है, ना तेरा नाम-ओ-निशां
वो दौर ही कुछ और था, फ़क़त पल दो पल का मेहमां।
 
न तूने मुझे जाना कभी, दिल से अपना माना कभी
मैं जितना पास आता गया, तू उतनी दूर होती गई।।
 
 

“वैसे तो मेरी हर नज़्म में सिर्फ तुम ही रहती हो”

वैसे तो मेरी हर नज़्म में सिर्फ तुम ही रहती हो
पता नहीं क्यों आजकल कहीं दिखती नहीं हो

हालाँकि अब भी तेरा ही ख़याल काफी है जीने के लिए
फिर भी हर ख़याल बेकरार है खुद काग़ज़ पर उतरने के लिए

कलम का तुमसे, न जाने क्या राब्ता है
दिल से जो गुज़रता है, ये वो रास्ता है

मिलती नहीं कभी कोई, नज़ीर बेनज़ीर के आगे
ज़ेहन में उलझते रहे, तन्हाई की तहरीर के धागे

तक़दीर के इन पन्नों पर, कुछ तो है जो ज़रूर लिखा है
तभी तो इस दिल को, दिल पढ़ने का ये शऊर मिला है

जमाने गुज़र गए, पर वक़्त अब भी वहीं है
यादों ने सींचा जिसे, वो दरख़्त अब भी वहीं है

वैसे तो मेरे हर अल्फ़ाज़ में सिर्फ तुम्हारा ही बयां है
पता नहीं क्यों आजकल वो एहसास कहीं खो गया है

हालाँकि अब भी तेरा ही ख़याल काफी है जीने के लिए
फिर भी हर ख़याल मुन्तज़िर है खुद काग़ज़ पर उतरने के लिए ।

क्या तुम अब भी मेरा ब्लॉग पढ़ती हो ?

क्या तुम्हें मैं याद हूँ अब भी
क्या तुम अब भी मेरा ब्लॉग पढ़ती हो ।

कहाँ रहती हो आजकल
किस शहर में
ना मेरे पास तुम्हारा पता है
ना कोई कॉन्टेक्ट नंबर
वो तो अच्छा हुआ कि
थोड़ा बहुत लिखना आ गया
वरना खुद को कैसे तसल्ली देता ।

जब भी तुम्हारी याद आती है
लिख बैठ जाता हूँ फौरन
आख़िर तुमने ही तो कहा था
अपने दिल की बातें
लिख दिया करो जनाब
मैं पढ़ा लिया करूंगी
जहाँ भी रहूंगी ।

एक अर्सा बीत गया है
ना मैं बदला हूँ
ना मेरी गुज़ारिश
आज भी हम दोनों वैसे के वैसे ही हैं
इसीलिए बस यहीं कहना चाहता हूँ
कि
क्या तुम्हें मैं याद हूँ अब भी
क्या तुम अब भी मेरी नज़्में पढ़ती हो ।।

RockShayar

“दी कॉलेज डेज (The College Days)”


IMG_0021

ज़िन्दगी में है, गर कुछ रियल क्रेज़
तो वो है, ऑनली दी कॉलेज डेज
ख़्वाबों ख़ाहिशों की, ये दुनिया गज़ब
पलभर में जाने यूँ, गुज़र जाती है कब
नये नये चेहरों से, होता है इन्ट्रो यहाँ
कोई इक्का, तो कोई छुपा मैस्ट्रो यहाँ
बर्थडे पार्टी मस्ती धमाल, जब भी छाये
घर से ज्यादा मन को, हॉस्टल ही भाये
क्लास में बैठना है, हमेशा लास्ट राॅ में
ध्यान मगर, अटका रहता फर्स्ट राॅ में
सोचते रहते, ऊफ्फ कब ऑवर होगा ये लेक्चर
लंच में आख़िर, देखनी भी है वो अधूरी पिक्चर
कैन्टीन ही है यहाँ, सबका फेवरेट अड्डा
रोज तैयार मिलता जहाँ, नया एक फड्डा
फर्स्ट ईयर में, सीनियर्स का ख़ौफ़ सताये
फ्रेशर्स में मगर, वोही सब तो गले लगाये
एग्जाम्स के दिनों में, नक्शा ही बदल जाता
एन्टी ग्रुप हर वक़्त, साथ साथ नज़र आता
किताबें नोट्स, हर तरफ रहता जिनका बोलबाला
पेपर ज्योंही खत्म हुए, लग जायेगा इन पर ताला
मस्तियाँ शरारतें, तूफ़ानिया अदावतें
शैतानियाँ हिमाकतें, लड़कपन वो चाहतें
कॉलेज लाईफ, मिक्सचर है इन सबका
हो गर बात से मेरी, आप सब जो एग्री
तो दिल से बोलो, फिर एक बार ये भी
ज़िन्दगी में है, गर कुछ रियल क्रेज़
तो वो है, ऑनली दी कॉलेज डेज
© RockShayar

“वो पोस्ट ग्रेजुएट यादें” (Memories of M.Tech.)

20140208_123950 ???????????????????????????????

कॉलेज डेज की मस्तियाँ, कुछ मीठी नमकीन बातें
ज़िंदा हों रही है आज फिर, वो पोस्ट ग्रेजुएट यादें
मचता जो हर वीकेंड पर, असाइनमेंट्स का शोर
लास्ट डेट को ही लगाते, सब अपना अपना ज़ोर
एम. टेक. स्टूडेंट्स की, दास्तां ये सबसे निराली
सिर पे रहती हर वक़्त, प्रेशर की बन्दूक दुनाली
इक हाथ में जॉब थे पकड़े, दूजे में डिग्री की थाली
एग्जाम्स के दिनों में, करते थे वो सब रातें काली
थीसिस अप्रूव हो जाये बस, हो तभी अपनी दिवाली
गुस्से में अक्सर, लाल पीला हो जाता ये दिल
क्लासेज का शिड्यूल, जब भी करता संडे किल
बावज़ूद इनके मगर, लाजवाब था वो दौर अपना
ज़िंदगी के सफ़र का, है जो सबसे प्यारा सपना
खुशियाँ बिखेरते लम्हें, और कुछ खूबसूरत वादें
ज़िंदा हों रही आज फिर, वो पोस्ट ग्रेजुएट यादें

© RockShayar

“सौंधे ज़ज़्बात”

3173181917_806167fec0

सौंधे ज़ज़्बात सब यूँ बह गये
मिट्टी के वो दिये जब ढह गये

रोशनी में डूबे हुए चन्द कतरे
आये और अलविदा कह गये

मन में छुपे है जो राज़ गहरे
तन्हाई वो चुपचाप सह गये

उजाले तो है, हर तरफ ‘इरफ़ान’
दिलों में फिर क्यूँ अन्धेरें रह गये

“जाने वो कौनसी फिल्म है”

1911280_737723456308403_2553094575954524165_o

जाने वो कौनसी फिल्म है
ज़िन्दगी की
जो अब तक
धुल नही पाई है
बस, इक नेगेटिव
क़ैद है, कई बरसो से
ख़यालों के कैमरे में
धूल सी जम गई है, उस पर
कुछ तस्वीरों की शक्ल
बदल चुकी है, पूरी तरह
वक्त की धूप में रखने से
मगर, वो इक पिक्चर
आज भी, वैसी ही है
जैसी, उस दौर में थी
जब, मैं सीख रहा था
तसव्वुर के फ्रेम में यूँ
एहसास का शाॅट लेना
और, रील थी कागज़ की

© RockShayar

” बस तुमको ही पुकारा हैं “

Image

निगाहों ने हर लम्हा, इक चेहरे को तलाशा है
तन्हाई के आलम में, बस तुमको ही पुकारा हैं

गीली गीली सी खामोशियाँ, बहुत कुछ कह रही
ख्वाबो कि वादियों में, इक साथ तेरा गंवारा है

पल पल ये दिल-ए-नादाँ, बेकाबू सा होने लगा
मदहोशी के आगोश में, यूँ तुमको ही संवारा है

ज़ज्बात मेरे बिखरे से, टूटे हुए कांच कि तरह
समेट ले इन्हे दामन में, अब तेरा ही सहारा है

इश्क़ कि क़ैफियत, फ़िज़ा में नज़र आने लगी
तुम मानो या ना मानो, क़ायनात का इशारा है

ख़लाओं में, दुआओ में, सदाओ में, वफाओ में
हर मौसम में अब यहाँ, बस तेरा ही नज़ारा है

निगाहों ने आज यहाँ, तेरे चेहरे को तलाशा है
तन्हाई के आलम में, इक तुमको ही पुकारा हैं

“आज फिर मैं सो नहीं पाया हूँ”

Image

आज फिर मैं सो नहीं पाया हूँ
तुम्हारी वो इक तस्वीर मिली है
पुरानी अलमारी के दराज में रखी
छुपाया था जिसे कभी मेने किताब में
इस डर से कि कोई देख ना ले
या खुद देख कर याद में ना रोने लगू

रुखसती के वक़्त वादा किया था मेने
नहीं बिखरुंगा अब कभी तेरे ख्याल से
मगर ज्योंही कागज़ पर साया नज़र आया
वादा यूँ टूट गया जेसे कोई बिखरा कांच

बहुत कोशिश कि है मेने
सख्त दिल बनने कि यहाँ
मगर ना जाने क्यूँ फितरत बदलती नहीं
बस तुझे ही बेइंतेहा चाहती रही है
कई दफा तेरे नाम को भी
अपने नाम से जोड़ता रहता हूँ मैं
अपने तख़ल्लुस में भी तेरा शुमार कर लिया
मगर हयात में तू फिर साथ क्यूँ नहीं है

शब् में गहरा सन्नाटा रहने लगा
मेरी तरह ये भी तन्हाई में जल रही
शायद इसे वो नूर याद आ गया
जिसके लिए मैं कभी यूँ दीवाना था
जेसे बरसते मौसम का आवारा बादल

जब भी तुम मेरे आसपास होती थी
बारिश शुरू होने लग जाती
इशारा था वोह कायनात का
मैं जिसे बखूबी समझ जाता
मगर तुम बहुत डरती थी
भीगने से नहीं, इश्क़ में डूबने से

अश्क़ यूँ रुख को नम कर रहे है
जेसे बारिश में छत से रिसता है पानी
बहुत रोया मैं उन तन्हा रातो में
जब तुम कही दूर चली गयी थी
और मुझे जरुरत थी हमसफ़र कि

हर नक्श में मेने तेरा चेहरा तलाशा
आज तक भी क्यूँ मुझे यकीं ना हो पाया
कि तुम तो जा चुके हो कब के दूर
मगर यह दिल अब भी कहता है
वोह गुज़ारिश मेरी कभी तो पूरी होगी
आज फिर मैं सो नहीं पाया हूँ
शायद तेरी तस्वीर रूह में बसी है !!

 

” वोह लम्हें “

Image

 

हर घड़ी याद आते है, बीते हुये वोह लम्हें
कुछ गुज़री यादें, तलाश रहा जिनमें तुम्हें
सुरमई दो आँखें, सुनाती मीर कि ग़ज़ल
लब पर सजे थे, बेशुमार दिलक़श तराने
क्यूँ नैनो से अब, खामोश नदी बहने लगी
उफ़नती लहरे जिसकी, रुख़ को भिगो रही
ख्वाब देखे थे कई, पलकों से छुपकर हमने

शब् में जिनके निशान, आज तक कायम है
रात भर अब ये आँखें, अधजगी सी रहती है
शायद यकीं है इन्हे, ख्वाब में बस दीदार का
क्यूँ करता हूँ तुमसे, मैं इतनी मुहब्बत यहाँ
इस सवाल का जवाब, अब तक मिला नहीं
गर जवाब है, बता देना चुपके से ख्वाब में
अगर ना हो तो भी, यूँही मिलने चले आना
बहुत दिन हो गये है, नाम से नाम जोड़े हुये
हयात में ना सही, लफ्ज़ो में तो हक़ दो मुझे

जब तुमसे मिला, इक दौर से गुजर रहा था
थामा जब यूँही कहीं, तुमने बस हाथ मेरा
आज तक वो दिन, सबसे प्यारा है लगता
मन मेरा ज़िद्दी बंजारा, आज भी वही ठहरा
सिफत यूँ आवारा, जेसे कोई जलता सहरा
कोई शैदाई, कोई दीवाना, कोई शायर कहता
इस दिल का हाल, मगर कोई नहीं समझता

मेरे ज़िस्म में, रूह में, लफ्ज़ में, अकस में
दिल के हर हिस्से में, उल्फ़तों के किस्से में
जज्बातों के एहसास में, तू आज भी रहती है
क्यूँ इतना सताते है, सुनहरे से हसीं वक्फ़े
उम्दा महकती यादें, पा रहा तुमको जिनमें
हर घड़ी याद आते है, बीते हुये वोह लम्हें
कुछ गुज़री यादें, तलाश रहा जिनमें तुम्हें