“मेघ की तरह हैं केश तुम्हारे, मृग की तरह हैं नयन”

मेघ की तरह हैं केश तुम्हारे, मृग की तरह हैं नयन
जब भी तुम चलती हो, बस तब ही चलती है पवन।

मौन के अनंत अंतरिक्ष में, गूँज रही है तुम्हारी वाणी
तारों की तरणी है तू, मन-मरुस्थल की हरित ढ़ाणी।

नेत्र तुम्हारे हैं अचूक धनुर्धर, हृदयभेदी बाण चलाते हैं
अधर तुम्हारे हैं मधु-सरोवर, नीर की प्यास बुझाते हैं।

मुखमंडल की आभा, अहर्निश सूर्य के जैसी लगती है
कंठ में एक स्वरमाला, सदैव संगीत बनकर बहती है।

आभूषण तुम्हारे नक्षत्र, यह वसुंधरा है वस्त्र
गगन तुम्हारा शस्त्र, एवं पवन अमोघ अस्त्र।

स्वप्नलोक में प्रतिदिन तुमसे भेंट होती है
प्रतीत होता है मानो स्वयं से भेंट होती है।

मन-कानन में बरसती हुई, प्रेम की पावन पावस हो तुम
निर्बल को जो बल देता है, मन में छुपा वो साहस हो तुम।

चपला कहूँ कि चंचला, या फिर कहूँ तुम्हें मैं कादंबिनी
दामिनी के सौदामिनी, या फिर चंद्रसुशोभित यामिनी।

कौन हो तुम, कोरी कल्पना हो, या हो कोई सुंदरी
अनामिका में धारण की मैंने, तुम्हारे नाम की मुँदरी।।⁠⁠⁠⁠

Advertisements

“मेरी रातों की नींद उड़ाने वाली”

मेरी रातों की नींद उड़ाने वाली
कल मैंने तुमसे थोड़ी नींद मांगी थी।

नींद तो नहीं दी तुमने
पर अपना तकिया दे दिया मुझे।

दिनभर मैं जिसका सिरहाना लगाता हूँ
और रात को उसी सिरहाने के नीचे तुम्हारी तस्वीर रखता हूँ।

वही तस्वीर जिस पर ग़ज़ल लिखने की ख़्वाहिश रखता हूँ
वही तस्वीर जिसकी आँखें पढ़ने की कोशिश करता हूँ।

वही गुज़ारिश जिसे सुनकर भी तुम नहीं सुनती हो
हाँ वही बारिश जिसमें भीगकर भी ख़ुश्क़ रहती हो।

इस तकिये से तुम्हारी खुशबू आती है
तुम्हारी खुशबू, जो मुझे दीवाना बनाती है।

दीवाना भी ऐसा, जो कभी किसी ने ना देखा
गर देखा भी हो तो कभी किसी ने ना जाना।

मेरी रातों की नींद उड़ाने वाली
कल मैंने तुमसे थोड़ी नींद मांगी थी।

नींद तो नहीं दी तुमने
पर अपना तकिया दे दिया मुझे।

आज जब मैं उस तकिये से लिपटकर सोया
तो पता चला, के नींद क्या होती है, चैन क्या होता है।

शुक्रिया मुझे मेरी नींद से मिलवाने के लिये
शुक्रिया रोज़ाना मेरे ख़्वाबों में आने के लिये।।

RockShayar.wordpress.com

“तेरी आँखें आँखें नहीं, ये तो हैं सितारों का जहां”

नील समंदर कहूँ तुम्हें, या कहूँ मैं नीला आसमां
तेरी आँखें आँखें नहीं, ये तो हैं सितारों का जहां।

तेरी साँसें मेरी साँसों में समाई हैं
तेरी यादें मैंने डायरी में छुपाई हैं।

तेरी आँखें मेरी आँखों का तारा हैं
तेरी बातें मेरे जीने का सहारा हैं।

बहती नदी कहूँ तुम्हें, या कहूँ मैं हवाओं की सदा
तेरी आँखें आँखें नहीं, ये तो हैं वादियों का जहां।

तेरी खुशबू मेरी रूह में समाई है
तेरी आरज़ू मैंने दिल में जगाई है।

तेरी तलब ही मेरी तड़प की असल ख़ुराक है
तेरी कसम ओ सनम, तू जीने की इक आस है।

उड़ता पंछी कहूँ तुम्हें, या कहूँ मैं लहरों की ज़बां
तेरी आँखें आँखें नहीं, ये तो हैं ख़्वाबों का जहां।

तेरी तस्वीर मेरी आँखों में समाई है
तेरी तस्वीर मैंने आँखों से बनाई है।

तेरी आँखें मेरे सुकून का पिटारा हैं
तेरी यादें मेरे जीने का सहारा हैं।

पहली बारिश कहूँ तुम्हें, या कहूँ मैं ज़मीं की दुआ
तेरी आँखें आँखें नहीं, ये तो हैं जादूगरी का जहां।।

“तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की”

वो छुप-छुपकर तुम्हें देखना मेरा
वो नज़रों के ख़त तुम्हें लिखना मेरा
वो हद से ज्यादा तुम्हें चाहना मेरा
वो तुमसे ज्यादा तुम्हें सोचना मेरा
मुझे ख़बर है बेख़बर मेरे यार की
तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की
तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की। 

वो हर चेहरे में तुमको ही देखना मेरा
वो नज़र आने तक पीछा करना मेरा
वो रब से हमेशा तुमको मांगना मेरा
वो तुमसे ज्यादा तुमको जानना मेरा
मुझे ख़बर है इस क़दर मेरे यार की
तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की
तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की। 

वो कुछ ना कहकर सब कहना मेरा
वो लहरों की तरह साथ बहना मेरा
वो लफ़्ज़ों में तुम्हें ज़िंदा रखना मेरा
वो यादों में तुमको बयां करना मेरा
मुझे ख़बर है हमसफ़र मेरे यार की
तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की
तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की। 

वो ना चाहकर भी तुमसे दूर होना मेरा
दर्द के दरिया में पल-पल डूबना मेरा
वो हद से ज्यादा खुद को सताना मेरा
अपने हाथों से यादों को जलाना मेरा
मुझे ख़बर है बेसबर मेरे संसार की
तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की
तुम्हें ख़बर तक नहीं मेरे प्यार की।।

“मैं हर रोज़ तुम पर एक ग़ज़ल लिखना चाहता हूँ”

कई दिनों से तुमसे एक बात कहना चाहता हूँ
मैं हर रोज़ तुम पर एक ग़ज़ल लिखना चाहता हूँ।

हालाँकि ज्यादा वक़्त नहीं हुआ है हमें मिले हुये
मैं फिर भी तुम्हारे बारे में सब जानना चाहता हूँ।

आँखों ने आँखों को चुन लिया, ओ रे पिया मोरे पिया
आँखों से आँखों के अनकहे अल्फ़ाज़ पढ़ना चाहता हूँ।

अब और क्या सोचना, बस यही अब सोचना
मैं तुम से ज्यादा तुमको अब सोचना चाहता हूँ।

चेहरों के घने जंगल में, चेहरा तेरा नूरानी है
मैं हर चेहरे में बस तेरा, चेहरा देखना चाहता हूँ।

दिल मेरा सहम जाता है,
जब भी दूर जाने का वक़्त पास आता है
मैं दूरियों का नहीं बस तुम्हारा होना चाहता हूँ।

दिलबर मेरे, दिल की खुशबू है तू, आरज़ू है तू
मैं रोज़ तुम्हें ज़िंदगी की तरह जीना चाहता हूँ।।

RockShayar.wordpress.com

“इश्क़ के हिसाब में थोड़ा सिफ़र हूँ मैं”

तेरी नज़रों के सफ़र से नहीं बेख़बर हूँ मैं
बस इश्क़ के हिसाब में थोड़ा सिफ़र हूँ मैं। 

जब से तुझको देखा है, खुद को नहीं देखा मैंने
मालूम नहीं जाने जहां, कहाँ और किधर हूँ मैं।

धीरे से दरवाज़ा खोलना, और धूल मत उड़ने देना
कई दिनों से बंद पड़ा, यादों का यतीमघर हूँ मैं। 

तेरे साये में सुकून मिला, मुझको यह जुनून मिला
के तपती हुई दोपहर में, शान से खड़ा शजर हूँ मैं।

ये उस दिन की बात है, जिस दिन सब कुछ बदल गया
बस उस दिन से दरबदर, सफ़र में इस क़दर हूँ मैं।

ख़यालों के झोंके जब भी आते हैं, मुझको ये बताते हैं
के सिर्फ एक झोंका नहीं, ख़यालों का बवंडर हूँ मैं।

वक़्त की साज़िश, और दर्द की आतिश ने सब कुछ जला दिया इरफ़ान
पर जलकर भी ना जला जो कभी दिल का वो घर हूँ मैं।

#RockShayar

सफ़र – यात्रा
सिफ़र – शून्य, ज़ीरो
यतीमघर – अनाथालय
शजर – पेड़, वृक्ष
आतिश – आग

“इश्क़ जब होता है”

इश्क़ जब होता है पता नहीं चलता है
इश्क़ जब होता है छुपा नहीं रहता है
इश्क़ जब होता है दिल नहीं भरता है
इश्क़ जब होता है दिल नहीं डरता है
इश्क़ जब होता है कुछ और नहीं होता है
इश्क़ जब होता है सिर्फ इश्क़ ही होता है
कोई हमें भी बताये
ये इश्क़ कैसे होता है
ये इश्क़ कैसे होता है।

इश्क़ की राहों में इम्तिहान लिखा होता है
इश्क़ की बाहों में इत्मिनान छुपा होता है
इश्क़ की आँखों में इक़रार बयां होता है
इश्क़ की यादों में इंतज़ार बड़ा होता है
इश्क़ की बातों में कोई लफ़्ज़ नहीं होता है
इश्क़ की बातों में सिर्फ इश्क़ ही होता है
कोई हमें भी बताये 
ये इश्क़ कैसे होता है
ये इश्क़ कैसे होता है। 

इश्क़ का अंदाज़ बहुत अच्छा होता है
इश्क़ में एहसास बहुत सच्चा होता है
इश्क़ का किरदार मासूम बच्चा होता है
इश्क़ पर ऐतबार मालूम सच्चा होता है
इश्क़ का हमयार कोई शख़्स नहीं होता है
इश्क़ का हमयार सिर्फ इश्क़ ही होता है
कोई हमें भी बताये 
ये इश्क़ कैसे होता है
ये इश्क़ कैसे होता है।

इश्क़ जब होता है तब नींद उड़ जाती है
इश्क़ जब होता है इक डोर जुड़ जाती है
इश्क़ जब होता है अड़चन बहुत आती है
इश्क़ जब होता है धड़कन बढ़ जाती है
इश्क़ जब होता है कुछ और नहीं होता है
इश्क़ जब होता है सिर्फ इश्क़ ही होता है
कोई हमें भी बताये 
ये इश्क़ कैसे होता है
ये इश्क़ कैसे होता है।।

#RockShayar

“ना कोई उसूल, ना कोई तरीका चलता है मोहब्बत में”

A-Walk-To-Remember-HD-Wallpapers4

ना कोई उसूल, ना कोई तरीका चलता है मोहब्बत में
सोचने-समझने का सलीक़ा कहाँ होता है मोहब्बत में

बाक़ी रिश्ते सब एक तरफ़, बाक़ी बातें सब एक तरफ़
दिल से दिल का दिलशाद रिश्ता जुड़ता है मोहब्बत में

अपनी-अपनी फिक़्रों में, सब मशगूल हैं, मसरूफ़ हैं
कोई नहीं जानता ये दिल कितना तड़पता है मोहब्बत में

दिल के जिस हिस्से में हम बचाकर रखते हैं यादें अपनी
दिल का वो हिस्सा थोड़ा ज्यादा धड़कता है मोहब्बत में

नींद को गहरी नींद सुलाना, अपने यार की नींद उड़ाना
ये जगना-जगाना आँखों को अच्छा लगता है मोहब्बत में

सदियों से चला आ रहा है, दिल की वादी में कोई गा रहा है
के हर इंसां यहाँ दिल से एक इंसां बनता है मोहब्बत में।

अब और क्या कहें इरफ़ान, चाहे तू ये मान या ना मान
शायर अपने माशूक पर बेइंतहा लिखता है मोहब्बत में।

@RockShayar⁠⁠⁠⁠

“कोई है जो मुझे कुछ ऐसा लगा”

कोई है जो मुझे कुछ ऐसा लगा
कि जैसे हूबहू मुझ जैसा लगा
कोई है जो मुझे कुछ ऐसे मिला
कि जैसे कई बरसों के बाद मिला
कोई है जो मेरी आँखों में बसता है
कोई है जो मेरी बातों पे हँसता है
कोई है जो मुझमें अब हरपल रहता है
कोई है जो मुझमें अब हरघड़ी बहता है
अगर जानना चाहती हो, वो कौन है
तो जवाब यहीं है मेरा, के वो तुम हो
मेरी ज़िंदगी, मेरा सब कुछ
अब तुम ही हो, बस तुम ही हो।

कोई है जिसे मैं तलाश रहा था कब से
कोई है जिसे मैं माँग रहा था रब से
कोई है जो मेरी चाहतों में पलता है
कोई है जो मेरी आदतों में ढ़लता है
कोई है जो मेरे अश्क़ों में बहता है
कोई है जो मेरे लफ़्ज़ों में रहता है
कोई है जो मुझे अब अपना सा लगता है
कोई है जो मुझे अब सपना सा लगता है
अगर जानना चाहती हो, वो कौन है
तो जवाब यहीं है मेरा, के वो तुम हो
मेरी ज़िंदगी, मेरा सब कुछ
अब तुम ही हो, बस तुम ही हो।

कोई है जिसे मैं शिद्दत से चाहता हूँ
कोई है जिसे मैं हसरत से देखता हूँ
कोई है जो मेरी नज़र में हरदम है
कोई है जो मेरी क़लम में हरदम है
कोई है जो मेरी हर डायरी में रहता है
कोई है जो मेरी हर शायरी में होता है
कोई है जो हरजगह अब मेरे साथ चलता है
कोई है जो हरलम्हा अब मेरे पास ही रहता है
अगर जानना चाहती हो, वो कौन है
तो जवाब यहीं है मेरा, के वो तुम हो
मेरी ज़िंदगी, मेरा सब कुछ
अब तुम ही हो, बस तुम ही हो।

कोई है जो मुझे कुछ ऐसा लगा
कि जैसे रूबरू मुझ जैसा लगा
कोई है जो मुझे कुछ ऐसे मिला
कि जैसे कई दुआओं के बाद मिला
कोई है जो मेरी बातों में होता है
कोई है जो मेरी नींदों में सोता है
कोई है जिससे बहुत मोहब्बत करता हूँ
कोई है जिसपे मैं अब बेइंतहा मरता हूँ
अगर जानना चाहती हो, वो कौन है
तो जवाब यहीं है मेरा, के वो तुम हो
मेरी ज़िंदगी, मेरा सब कुछ
अब तुम ही हो, बस तुम ही हो।।

#RockShayar⁠⁠⁠⁠

“तसव्वुर में मेरे आजकल तुम्हारी तस्वीर चलती है”

तसव्वुर में मेरे आजकल तुम्हारी तस्वीर चलती है
काग़ज़ पर अल्फ़ाज़ नहीं बल्कि तस्वीर उभरती है।

तेरी तस्वीर जब भी देखता हूँ, ख़यालों में खो जाता हूँ
मैं कुछ नहीं लिखता हूँ, तेरी तस्वीर मुझसे लिखवाती है।

तेरी रूह, तेरा नक़्श, तेरा नाम, सब चाँदी जैसे सफ़ेद हैं
दिल के अंधेरे कमरे में, तू रौशन कोई खिड़की लगती है।

तेरी खुशबू का अंदाज़ा तो इस बात से मालूम चलता है
कि जिस गली से गुज़रे तू, वो गली फूलों सी महकती है।

तेरे आने से मेरी ज़िंदगी का अधूरापन अब खत्म हुआ
ज़िंदगी पहले के बजाय इन दिनों ज्यादा मुस्कुराती है।

मुझे ये ख़बर है कि तुम्हें मेरे फ़ितूर की कोई ख़बर नहीं
सुन ओ बेख़बर, तेरी तस्वीर तो मेरी आँखों में बसती है।

दुआओं की दरख़्वास्त है, ये जुदाई नाकाबिले बर्दाश्त है
सुना है कि दुआओं से तक़्दीर की तस्वीर बदल जाती है।।⁠⁠⁠⁠

“अगर मैं तुमसे ये कहूँ”

अगर मैं तुमसे ये कहूँ
के तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो
तो इस बारे में तुम्हारा क्या कहना है
मुझे तो सनम संग तुम्हारे ही रहना है।

रहने को या कहने को तो हम दोनों तन्हा हैं
फिर भी साथ-साथ हर जगह हर लम्हा हैं
मेरा हर लफ़्ज़ तुम्हारी खुशबू से वाकिफ़ हैं
तुम्हारा हर लम्स मेरी आरज़ू के काबिल हैं।

अगर मैं तुमसे ये कहूँ
के तुम मुझे बहुत सच्ची लगती हो
तो इस बात पर तुम्हारा क्या कहना है
मुझे तो रोज़ आता तुम्हारा ही सपना है।

सपने में तुम और भी हसीन लगती हो
चाँदनी में नहाई हुई नाज़नीन लगती हो
ख़ामोशी की चादर ओढ़े हुये हैं लब तुम्हारे
नैनों के वो ढ़ेरों ख़त पढ़े हुये हैं सब तुम्हारे।

अगर मैं तुमसे ये कहूँ
के तुम मुझे बहुत प्यारी लगती हो
तो इस बारे में तुम्हारा क्या कहना है
मुझे तो सनम साथ तुम्हारा ही देना है।

साथ देने और साथ रहने में बहुत फर्क़ है
ज़िंदगी का क्या है, ये ज़िंदगी तो बेदर्द है
एहसास को तलाश के तराजू में ना तोलो
गर महसूस करो तो एहसास ही हमदर्द है।

अगर मैं तुमसे ये कहूँ
के तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो
तो इस बारे में तुम्हारा क्या कहना है
मुझे तो बेबाक संग तुम्हारे ही बहना है।

बहते-बहते जाने जहां, कहाँ आ गये हैं हम
नील समंदर फैला जहाँ, वहाँ आ गये हैं हम
एक आहट है जो सुकून-ओ-राहत देती है
दिल ने दस्तक देकर सब मिटा दिये हैं ग़म।

अगर मैं तुमसे ये कहूँ
के तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो
तो इस बारे में तुम्हारा क्या कहना है
मुझे तो सनम संग तुम्हारे ही रहना है
मेरे दिल का फ़क़त तुमसे यह कहना है
मुझे तो सनम संग तुम्हारे ही जीना है।।

http://www.rockshayar.wordpress.com⁠⁠⁠⁠

“काली-काली जुल्फ़ें तेरी आँखें भी हैं काली-काली”

काली-काली जुल्फ़ें तेरी आँखें भी हैं काली-काली
तेरी बातों के बिना मेरी बातें भी हैं ख़ाली-ख़ाली।

उठते-बैठते हर वक़्त तुम्हारी तस्वीर से बात करता हूँ
जागते-सोते हर वक़्त तुम्हें याद रखकर याद करता हूँ।

हालाँकि बेपनाह चाहता हूँ तुम्हें, लेकिन कभी नहीं बताता हूँ तुम्हें
गुस्से में और भी हसीन लगती हो, इसीलिये तो सताता हूँ तुम्हें।

काली-काली जुल्फ़ें तेरी आँखें भी हैं काली-काली
तेरी आँखों के बिना मेरी आँखें भी हैं ख़ाली-ख़ाली।

पता ही नहीं चला कब तुमसे मोहब्बत हो गई
पता ही नहीं चला कब तुम्हारी आदत हो गई।

तुम्हें तो शायद ये भी पता नहीं कि तुम्हें सोचता हूँ मैं
तुम्हें तो शायद ये भी मालूम नहीं कि तुम्हें लिखता हूँ मैं।

काली-काली जुल्फ़ें तेरी आँखें भी हैं काली-काली
तेरी साँसों के बिना मेरी साँसें भी हैं ख़ाली-ख़ाली।

तुम्हें मुझसे ही मोहब्बत करने की कोई बंदिश नहीं
तुम्हें मेरा ही साथ देने की मैं करता गुज़ारिश नहीं।

एक दिन तुम यह जान जाओगी कि तुम्हारा आशिक कौन था
एक दिन तुम यह मान जाओगी कि तुम्हारा साहिल कौन था।

काली-काली जुल्फ़ें तेरी आँखें भी हैं काली-काली
तेरी यादों के बिना मेरी यादें भी हैं ख़ाली-ख़ाली।।⁠⁠⁠⁠

“मैं अब भी तुझको चाहता हूँ”

सबसे अब ख़फ़ा होकर
खुद से खुद ज़ुदा होकर
इश्क़ में तेरे फ़ना होकर
आवारा इक हवा होकर
संग तेरे ही अब बहना चाहता हूँ
जानाँ ये तुझसे कहना चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ।

रब की रहमत अता होकर
अपने घर का पता खोकर
दिल से निकली दुआ होकर
दर्द की तदबीर दवा होकर
संग तेरे ही अब जीना चाहता हूँ
जानाँ ये तुझसे कहना चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ।

ख़्वाब में तुझको देखकर
ख़याल में तुझको सोचकर
दिल में हसरतें पालकर
आँखों में आँखें डालकर
जाम तेरा ही अब पीना चाहता हूँ
जानाँ ये तुझसे कहना चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ।

खुद में खुद को खोकर
तुझमें खुद को पाकर
नहीं है दिल ये बेघर
तुझको दिल ये देकर
तुझमें ही अब धड़कना चाहता हूँ
जानाँ ये तुझसे कहना चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ
मैं अब भी तुझको चाहता हूँ।।

@RockShayar⁠⁠⁠⁠

“लौटकर तो सिर्फ यादें आती हैं, कभी वो वक़्त नहीं”

1014167_152440558282239_589204630_n.jpg

लौटकर तो सिर्फ यादें आती हैं, कभी वो वक़्त नहीं
उसकी कही बातें याद आती हैं, अब वो शख़्स नहीं।

सिर्फ पढ़ने से ही जिसे, जग उठे वो एहसास फिर से
ज़िंदगी सब कुछ लिख देती हैं, मगर वो लफ़्ज़ नहीं।

कह गये वो शायर सयाने, इश्क़ के जो थे दीवाने
मिल जाये जो बड़ी आसानी से, असल वो इश्क़ नहीं।

शिद्दत और मेहनत, शर्त यही के दोनों साथ हो
फिर पूरी न की जा सके जो, ऐसी तो कोई शर्त नहीं।

साये की किस्मत है, सुबह से शाम चलना और ढ़लना
धूप का तिलिस्म है ये तो, साये का अपना कोई अक्स नहीं।

ज़ईफ़ जिस्म का नहीं, जवां रूह का हुस्न है मोहब्बत
देखकर जिसे खुद नैन कहे, कभी देखा ऐसा नक्श नहीं।

वक़्त की बेवक़्त ख़ामोशी का, बयान है यह तो इरफ़ान
एक वक़्त के बाद सब लौट आते हैं, मगर वो वक़्त नहीं।।

http://www.rockshayar.wordpress.com⁠⁠⁠⁠

“पहले तो तेरा ख़याल ही काफ़ी था, जीने के लिये”

561302_114215078775715_1569776330_n

पहले तो तेरा ख़याल ही काफ़ी था, जीने के लिये
और अब तेरा ख़याल भी नाकाफ़ी है, जीने के लिये।

वो गुज़ारिश जो थी मेरी, वो अब भी अधूरी है
वो नवाज़िश जो थी तेरी, वो अब भी ज़रूरी है।

जो दिल से दिल मिल जाते, तो क्या बात होती
जो हमारे दिल मिल जाते, तो क्या बात होती।

पहले तो तुम तसव्वुर पर खूब बंदिशें लगाती थी
और अब तुम हो कि तसव्वुर में भी नहीं आती हो।

वो सवाल जो था मेरा, वो अब भी वही है
वो जवाब जो था तेरा, वो अब भी नहीं है।

जो लब से लब मिल जाते, तो क्या बात होती
जो हमारे चेहरे खिल जाते, तो क्या बात होती।

पहले तो तुम बेनज़ीर सी बहुत वो बातें करती थी
और अब तुम हो कि ज़रा भी नहीं याद करती हो।

वो अंदाज़ जो था मेरा, वो अब भी वही है
वो एहसास जो था तेरा, वो अब भी वही है।

जो मन से मन मिल जाते, तो क्या बात होती
जो हम दोनों खिल जाते, तो क्या बात होती।।⁠⁠⁠⁠

“न मुझे इख़्तियार दिया, न मेरा इंतज़ार किया”

न मुझे इख़्तियार दिया, न मेरा इंतज़ार किया
ऐ ज़िंदगी तूने मेरा, क्यों कभी ऐतबार न किया।

मैं मनाता ही रहा, तू रूठती चली गयी
खुद को ढूँढ़ते हुये, बड़ी दूर चली गयी।

वक़्त के वो धारे, जो कि अब धुंधले हो चुके हैं
एहसास की उस नदी में, रेत बनकर जम चुके हैं।

मुसाफ़िर आज भी मिलते हैं, अनजान सफ़र में
हसरतों के आशियाँ लिये हुये, आँखों के घर में।

ऐतबार करना मगर, अब भी बहुत मुश्किल है
तब से लेकर अब तक, सहमा हुआ ये दिल है।

ज़िंदगीभर ऐ ज़िंदगी, मुझको तेरा इंतज़ार ही रहा
मैं जितना पास आता गया, तू उतना दूर होती गयी।

छुप कर बैठी है कहीं, क्यों गर्दिशो में तू अब भी
कभी तो झांक इधर, मैं तन्हा खड़ा हूं अब भी।

सुना है ! कई रंगो से मिलकर बनी है तू
वो सुनहरे सपने तेरे, मुझे कब दिखाएगी तू।

ज़िंदगी तुझसे मेरा, अब वो पहले जैसा रिश्ता न रहा
तू यादें मिटाती चली गयी, मैं फर्यादें लिखता ही रहा।।⁠⁠⁠⁠

“आज फिर से बहुत तेज़ बारिश हो रही है”

आज फिर से बहुत तेज़ बारिश हो रही है
आसमाँ से ज़मीं की सिफ़ारिश हो रही है।

आज फिर से जीने की ख़्वाहिश हो रही है
दिल से दिल की वही गुज़ारिश हो रही है।

आज फिर से ज़िन्दगी मदहोश हो रही है।
हौले-हौले खुद ये अपना होश खो रही है।

आज भी मैं बरसते हुए मौसम का आवारा बादल हूं
आज भी मैं उफनते हुए सागर का बंजारा साहिल हूं।

जब भी तुम मेरे आस-पास होती
बारिश शुरू होने लग जाती।

इशारा था वो कायनात का
फ़साना था वो जज़्बात का।

मैं जिसे बखूबी समझ जाता, मगर तुम बहुत डरती थी
भीगने से, इश्क़ में डूबने से, इसलिए दूर-दूर रहती थी।

आज फिर से वही पहले जैसी बारिश हो रही है
आज फिर से ये कायनात कोई इशारा दे रही है।

आज फिर से बहुत तेज़ बारिश हो रही है
आज फिर से जीने की ख़्वाहिश हो रही है।।

rockshayar.wordpress.com⁠⁠⁠⁠

“पता नहीं वो कौन है”

10005799_1444116939228011_5295526436853970530_o.jpg

बारिशों की तरह वो आती है
घटाओं की तरह वो छाती है
फ़िज़ाओं की तरह वो गाती है
दुआओं की तरह वो जाती है
हाँ, मुझको जो आज़माती है
पता नहीं वो कौन है, पता नहीं वो कौन है।

मुस्कान में एक ताज़गी है
चेहरे पर उसके सादगी है
मरहबा ये तो दीवानगी है
जो देखे वो कहे आफ़रीं है
इस रूह की जो जानशीं है
पता नहीं वो कौन है, पता नहीं वो कौन है।

मैंने हरदम जिसे सोचा
अपने अंदर जिसे पाया
मैंने हरपल जिसे चाहा
जिगर में जिसे बिठाया
वो जो है मुझमें नुमायाँ
पता नहीं वो कौन है, पता नहीं वो कौन है।

बला की जो ख़ूबसूरत है
मासूमियत की मूरत है
जैसी वो उसकी सूरत है 
वैसी ही उसकी सीरत है
इस दिल की जो हसरत है
पता नहीं वो कौन है, पता नहीं वो कौन है।।

© RockShayar

“तेरी साँसों की सरगोशी में नुमायाँ मैं”

IMG_20140101_144805.jpg
तेरी खुशबुओं से,
खिंचा चला आया मैं
तेरी साँसों की सरगोशी में नुमायाँ मैं।
 
जब भी धड़कता हूँ.
तुझमें धकड़ता हूँ
तेरी धड़कनों में इस क़दर समाया मैं।
 
सबने मुझे बुलाया,
पर मुझको कोई न भाया
जब तूने मुझे बुलाया, दौड़ा चला आया मैं।
 
ज़रा ग़ौर से देखो मुझे,
ऐ जाने जहाँ
तेरी ज़िन्दगी का हसीन सरमाया मैं।
 
तुझे ख़बर नहीं है,
मुझे सबर नहीं है
देख तेरी ख़ातिर क्या-क्या लाया मैं।
 
ये मोहब्बत मेरी,
कम न होगी कभी
तेरी आदतें सब मेरी, तेरा हमसाया मैं।।
 
© RockShayar

“मैंने तुझे कल याद किया था”

ये कैसे हो सकता है जानाँ
मुझको ज़रा ये तो बताना।
मैंने तो कुछ बोला भी नहीं
राज़ अपना खोला भी नहीं।
फिर तुमने ये सब कैसे जाना
जानाँ ज़रा मुझको ये बताना।
वो कौनसा जादू आता है तुम्हे
ये दिल बेकाबू चाहता है तुम्हे।
दूर होकर भी जो इतना क़रीब हो
हबीब हो रक़ीब हो, या नसीब हो।
तुम्हे महसूस करूं तो कैसे करूं
छू भी ना पाऊं, इतना क़रीब हो।
मैंने तुझे कल याद किया था
बहुत दिनों के बाद किया था।
भूल से नहीं, हाँ जानबूझकर
दिल से बहुत याद किया था।।
© RockShayar

“गर ज़मीं पर कहीं जन्नत है तो बस यहीं है, यहीं है”

Kashmirvalley.jpg

 

“गर फिरदौस बर-रूऐ ज़मीं अस्त
हमी अस्तो, हमी अस्तो, हमी अस्त”

When you read it…You just feel it…

वादियों का दिलकश जहाँ, जैसे ख़्वाब कोई हसीं है
गर ज़मीं पर कहीं जन्नत है तो बस यहीं है, यहीं है।

कांपती हुई कायनात ने, धुंध की चादर ओढ़ रखी है
बर्फीले कोहसारों में, इश्क़ की अंगीठी सुलग रही है।

देखों तो सही, डल झील में तैर रहे हैं कई शिकारे
ऐसे में कोई अपना दिल, बताओ तो कैसे ना हारे।

सुर्ख़ चिनार के वो शादाब शजर, मुस्कुराते हुए नज़र आते हैं
गुलमर्ग से लेकर पहलगाम तक, गुनगुनाते हुए नज़र आते हैं।

निशात हो या शालीमार, चमन में तो गुल खिलते हैं
दौर-ए-खिज़ा में अक्सर यहाँ, पत्तों के रंग बदलते हैं।

दरिया-ए-झेलम का पानी, अपनी कहानी कह रहा है
कई बरस बीत चुके हैं, मुसल्सल ख़ामोश बह रहा है।

अस्सार-ए-शरीफ़ जहां पर, महफूज़ मो-ए-मुक़द्दस है
हज़रतबल दरगाह तो बेहद, पाकीज़ा और मुक़द्दस है।

फ़िज़ाओं में बसी वो बेनज़ीर, जैसे कोई माहज़बीं है
गर ज़मीं पर कहीं जन्नत है तो बस यहीं है, यहीं है।।

:-RockShayar

“वो अधूरी गुज़ारिश मेरी, अब भी अधूरी है”

561302_114215078775715_1569776330_n.jpg

 

वो अधूरी गुज़ारिश मेरी, अब भी अधूरी है
कम नहीं होती कभी, ये जाने कैसी दूरी है।

तेरा नाम तेरी बातें, तुझसे मेरी वो मुलाकातें
तुझे भुलाने के लिए तुझे याद करना ज़रूरी है।

सुना है ! माशूक, साथ जीते हैं साथ मरते हैं
हमारा यूँ दूर-दूर रहना, कितना ग़ैरज़रूरी है।

हद पार करता हूँ, कभी सरहद पार करता हूँ
जुनून को बढ़ाता है जो, नशा तेरा फितूरी है।

तुझको भुलाना जैसे, खुद को भुलाना लगता है
बेपनाह चाहूँ तुझे, कितनी हसीं ये मज़बूरी है।

जितना सोच पाता हूँ, लिखता चला जाता हूँ
ये कामयाबी तो, कड़ी मेहनत की मज़दूरी है।

तेरी मेरी वो कहानी, डायरी में है जो छुपानी
अभी तो आधी लिखी है, बाक़ी अभी पूरी है।।

“तुझ को भुलाने की, हर नाकाम कोशिश कर चुका हूँ”

A  Walk To Remember 001.jpg

 

तुझ को भुलाने की, हर नाकाम कोशिश कर चुका हूँ
और हर उस कोशिश को, नाकाम भी मैं ही बनाता हूँ।

बहुत दिनों से मैंने, अपने अंदर एक समंदर छुपा रखा है
दिल के किसी कोने में, तेरी यादों का बवंडर दबा रखा है।

तुम से मुलाक़ात के वक़्त, बस यही ध्यान रखता हूँ मैं
कि तुम्हारे भीतर जो तुम हो, उससे मुलाक़ात हो जाए।

कई बार इस बारे में सोचा है मैंने, कि तुम से ना मिलू
लेकिन हरबार यही लगता है, के आख़िर क्यों ना मिलू।

याद है पिछली दफा, जब तुम मुझ से मिलने आई थी
कई दिनों तक ये ज़िन्दगी, मुसलसल मुस्कुराई थी।

तेरे जाने के बाद, जीना बहुत मुश्किल होता है
तुझे याद कर करके, ये दिल महीनो तक रोता है।

सोच रहा हूँ इस बार तुम्हे, अपनी आँखों में क़ैद कर लू
भूलने से पहले इकदफा तुम्हे अच्छी तरह याद कर लू।

सफ़र में यूँही चलते-चलते, आखिरकार हम मिल ही गए
एक लम्हे के लिए ही सही, आखिरकार हम मिल ही गए।।

“राब्ता”

vlcsnap-2013-07-08-23h42m43s41.png
कभी-कभी लगता है तुम से, सदियों पुराना कोई वास्ता है
अधूरा है अब तक एहसास कोई, रुह का रूह से ये राब्ता है।
 
न तूने मुझे अपनाया कभी, न मैंने तुझे ठुकराया कभी
मैं जितना याद करता रहा, तू उतना मुझे भुलाती गई।
 
कैसा अजब ये रिश्ता है, दिलों के दरमियां जो पिसता है
न तुम समझ पाए कभी, न हम समझ पाए कभी।
 
मुझ से ज्यादा तुम्हे मेरी, मोहब्बत से मोहब्बत रही हमेशा
और तुम्हे सोचते ही मुझे वो, सुकून-ओ-राहत मिली हमेशा।
 
न तूने मुझे तड़पाया कभी, न मैंने तुझे तरसाया कभी
मैं जितना दर्द छुपाता रहा, तू उतना बेख़बर होती गई।
 
अजीब हालात के चलते, ये ज़िन्दगी भी अजीब हुई
एक पल को अमीर होकर, अगले ही पल ग़रीब हुई।
 
अब ना कहीं तू नज़र आती है, ना तेरा नाम-ओ-निशां
वो दौर ही कुछ और था, फ़क़त पल दो पल का मेहमां।
 
न तूने मुझे जाना कभी, दिल से अपना माना कभी
मैं जितना पास आता गया, तू उतनी दूर होती गई।।
 
 

“पता था”

A-Walk-To-Remember-HD-Wallpapers4.jpg

तेरी परछाई संभाल कर रखी है मैंने
पता था कि अंधेरा घना होने वाला है।

तुझे ख़बर नहीं थी मेरे आने की
मगर मुझे ख़बर थी तेरे जाने की।

वो पल, जो पल भर के लिए हम को मिले थे
न उनमें कोई शिकवे थे, न उनमें कोई गिले थे।

तेरी आवाज़ सहेज कर रखी है मैंने
पता था कि ख़ामोशी कायम होने वाली है।

तुमने कभी बताया नहीं, कि कौन हो तुम
तफ़्तीश करता रहा, मैं ज़िन्दगी भर यही।

इस बार जब मुलाक़ात होगी, तो पूछूँगा
इस मुलाक़ात में कितने अलविदा छुपे हैं।

हर बार यह अलविदा मेरी जान ही ले लेता है
पता नहीं इसके मुँह, कब मेरा खून लग गया।

तेरी तस्वीर संभाल कर रखी है मैंने
पता था कि याददाश्त जाने वाली है।।

RockShayar

“कभी कभी सोचता हूँ कि ठहर जाऊं”

कभी कभी सोचता हूँ कि ठहर जाऊं
तुम्हारे एहसास को छूकर संवर जाऊं

मगर ये अब मुमकिन कहाँ है जानाँ
पता नहीं हमें संग कहाँ तक है जाना

मन्ज़िल तो रूठी हुई है कब से
और रास्ते भी छूटे हुए हैं तब से

अपने ही कदमों के निशां, कहीं मिलते नहीं है
नज़रों के चेहरे भी तो, आजकल खिलते नहीं है

सीने में तुमने अपने, कई दर्द छुपाएं हैं
उसी दर्द की, मुझ पर भी कुछ अताएं हैं

आवारा एक झोंका हूँ, रुकना कहाँ नसीब में
छूना चाहो गर मुझे तो, गुज़रो कभी करीब से

समंदर किनारे बैठा करो, कुछ देर बस यूँही
लहरों की शक्ल में, छूकर तुम्हें लौट जाऊंगा

कभी कभी चाहता हूँ कि ठहर जाऊं
तुम्हारे एहसास को पीकर निखर जाऊं ।।

“तुम्हारी हँसी की गूँज”

तुम्हारी हँसी की गूँज, अब तलक मेरे कानों में है
तुम्हारी मदहोश महक, अब तलक मेरे गानों में है

तुम्हें सोचना चाहता हूँ, तुम पर लिखना चाहता हूँ
जब भी देखो आईना तुम, तुम में दिखना चाहता हूँ

इश्क़ हो गया है तुमसे, या तुम्हारी कही बातों से
आँखें पढ़ो तो मालूम होगा, सोया नहीं हूँ रातों से

दोस्त कहता हूँ, और मन ही मन मोहब्बत करता हूँ
जमाने से नहीं, फ़क़त तुम्हें खोने के डर से डरता हूँ

डरो नहीं यूँ मुझसे, मैंने भी बहुत से धोखे खाये हैं
यक़ीन करो बस मेरा, हम एक ही रूह के साये है

वादा करता हूँ तुमसे, दिल ना कभी दुखाऊंगा मैं
आज के बाद यूँ हर जगह, तुम्हें नज़र आऊंगा मैं

फिर भी कभी कुछ बुरा लगे, तो बता देना मुझे तुम
आँखों ही आँखों में इस तरह से जता देना उसे तुम

तुम्हारी चूड़ियों की खनक, अब तलक मेरे कानों में है
तुम्हारी आँखों की चमक, अब तलक मेरी आँखों में है ।

@RockShayar

“तुम्हें तो आना ही था न”

तुम्हें तो आना ही था न
फिर इतनी देर क्यों लगा दी आने में
पता है ! कितना बेचैन था मैं इतने बरसों से
तुम्हारी तलाश में दर बदर भटक रहा था
यक़ीन था कि तुम एक न एक दिन मिलोगी ज़रूर
मगर किस शक्ल में मिलोगी ये पता नहीं था ।

रिश्ता चाहे कोई भी हो
एहसास से बड़ा तो कोई एहसास नहीं होता है न
मेरे लिए तो बस इतना ही काफी है
के तुम्हारे होने के ख़याल से ही
इस चेहरे पर खुशी लौट आई है फिर से
हो सकता है तुम्हारी सोहबत में
फिर से जीना सीख जाऊं
थोड़ा थोड़ा फिर से खिलना सीख जाऊं ।

ज़रूरी नहीं कि जो मुझे महसूस हो रहा है
वहीं तुम्हें भी हो
मैं तुम पर कोई बंदिश नहीं लगा रहा
तुम तो आज़ाद हो हमेशा से
मैं तो बस इतना कहना चाह रहा हूँ
के इस बार जब जाओ तो बताकर जाना
खोने का डर बहुत डरावना होता है
एक पल में सब कुछ छीन लेता है
पिछली बार इसने कुछ अश्क़ छीने थे
अब तक नहीं लौटाएं है वो
गर लौटा दे तो दिल हल्का हो जाएगा मेरा ।

तुम्हें तो आना ही था न
फिर इतनी देर क्यों लगा दी आने में
पता है ! कितना बेचैन था मैं इतने बरसों से
तुम्हारी तलाश में दर बदर भटक रहा था ।।

 

“मोहब्बत का हलफ़नामा”

कई मर्तबा अपनी मोहब्बत का
हलफ़नामा पेश कर चुका हूँ
दिल की भरी अदालत में
मगर ये दिमागी वक़ील
हर बार वहीं जिरह करता है
और साबित कर देता है सच अपनी हर बात
मुन्सिफ़ के ज़ेहन में नहीं होते हैं जज़्बात ।

हालांकि कई गवाह भी बुलाए गए
मगर वो सब हालातों के डर के आगे
ऐन वक़्त पर मुकर गए ।

बेचारा दिल
हर बार यादों के कठघरे में
अकेला ही खड़ा रह जाता है
किसी मुज़रिम की तरह
पता नहीं कौनसी दफ़ा के तहत
मोहब्बत को जुर्म करार दिया गया है ।

मुझे पता नहीं था
कि तुम्हारे सूबे को एक ख़ास दर्जा मिला हुआ है
मुल्क़ के काॅन्स्टिट्यूशन के तहत
सियासतदारों के लिए
जो चुनावी बिसात रहा है बरसों से ।

मोहब्बत करने से पहले
कौन इतना सोचता है
ये तो बस हो जाती है
गर सोचकर की जाए तो वो मोहब्बत नहीं
बल्कि सौदेबाजी कहलाएगी ।

अब जबकि जुर्म साबित हो चुका है
तो मुझे मुल्जिम की तरह ज़िन्दगी जीनी पड़ेगी
इस बात का कोई ग़म नहीं है
बल्कि बेहद खुशी है कि तुम्हारे इश्क़ में सजायाफ्ता क़ैदी बन चुका हूँ मैं ।

“बेशक इश्क़ के काॅन्स्टिट्यूशन में
कहीं कोई दफ़ा तीन सौ सत्तर नहीं होती है”

कई मर्तबा अपने फ़ितूर का
अहदनामा पेश कर चुका हूँ
हसरतों की भरी महफ़िल में
मगर ये हालातों का वक़ील
हर बार वहीं सवाल जवाब करता है रूह से
और साबित कर देता है सच अपनी हर बात
मुन्सिफ़ के ज़ेहन में नहीं होते हैं जज़्बात ।।

@RockShayar

 

“यादों की कमीज़”

मेरी यादों की कमीज़ पर
कई दफ़ा तुमने अपनी मुलायम हथेलियों से
एहसास की ज़रदोज़ी की है ।
नूर के रंग में रंगे धागों को जब भी तुम छूती हो
इनका रंग और भी गहरा हो जाता है ।

शायद तुम्हारे हाथों का लम्स पहचानते हैं ये
तभी तो मेरे छूते ही इनका रंग यूँ उड़ जाता है
जैसे शबनम का कोई क़तरा धूप में रखा हो ।

मेरे एहसास में अब तलक
वो दर्द की तपिश बाक़ी है
मगर जब भी ये कमीज़ पहनता हूँ
बारिश होने लगती है रूह पर
और वो तपिश पलभर में गायब हो जाती है ।

इसी कमीज़ की आस्तीन पर
एक फूल बना हुआ है
जो तभी खिलता है
जब तुम्हारी खुशबू की आमद होती है ।

इतनी हमराज़ हो चुकी है ये कमीज़
कि गर इसे उतारने की कोशिश करूँ
तो साथ में रूह भी उतरने लगती है
और वैसे भी इश्क़ का सुर्ख़ लिबास
कभी उतारे नहीं उतरता है ।

मेरी यादों की कमीज़ पर
तुम्हारे एहसास की ज़रदोज़ी
अब भी वैसी ही है
जैसी तुमने की थी
न ये बदली है, न मैं
दोनों वैसे के वैसे ही हैं आज तक ।।

@RockShayar

“Maliqa-e-Firdaus”

फ़िरदौस से आई हो या उस ओर से
जहां बर्फीले पहाड़ आसमां को चूमते हैं
नदियाँ इठलाती हैं, और झरने झूमते हैं

वादी में जब कभी वो बर्फ पिघलती है
ज़िन्दगी मुस्कुराने को फिर मचलती है

हर सू जहां पर चिनार की खुशबू आती है
और हवाएँ मोहब्बत के गीत गुनगुनाती है

दरिया-ए-झेलम भी तुम्हारे संग बहता है
चाँदनी रातों में मन के किस्से कहता है

तेरे इश्क़ का कहवा मैं हर शब पीता हूँ
एक तसव्वुर के सहारे सदियाँ जीता हूँ

दहशतगर्दी भी तुझे बेशक बदल नहीं पाई है
नफ़रत की हवा तुझमें कभी पल नहीं पाई है

फ़िरदौस से आई हो या उस ओर से
जहां झील में दो शिकारे गुफ्तगू करते रहते हैं
फिर से हमारे मिलने की आरज़ू करते रहते हैं ।।

@RockShayar

“आज तुम्हारी याद आ ही गई मुझे”

कई दिनों के बाद आखिरकार
आज तुम्हारी याद आ ही गई मुझे
जब मैंने वो लाल रंग की
छोटी सी डायरी खोली
जो गिफ्ट की थी तुमने मुझे
मेरे पिछले बर्थ डे पर

इसमें केवल ग़ज़ल ही लिखता हूँ
क्योंकि तुम भी तो एक ग़ज़ल ही थी
बलखाती हुई, लहराती हुई, शर्माती हुई

जब तुमने मुझसे अपने प्यार का इज़हार किया
उस वक्त मैं गुज़रे हुए दौर के
एक दौर से गुज़र रहा था
समझ नहीं पाया कि तुम्हें क्या जवाब दू

इसीलिए मैंने तुम्हें बस यूँही कह दिया
कि मैं तुम्हारे लिए वैसा महसूस नहीं करता हूँ
जैसे कि तुम मेरे लिए महसूस करती हो

ये ज़रूरी भी था मेरे लिए
क्योंकि ज़ख्मी दिल अक्सर सहमा सा रहता है

जो भी वक्त मैंने तुम्हारे साथ गुज़ारा
आज वो एक खूबसूरत याद बन चुका है

अच्छा लगता है सोचकर कि
मैंने तुम्हें सब सच सच बता दिया

क्योंकि दिल टूटने की आवाज़ से
मैं अच्छी तरह वाकिफ़ रहा हूँ

तुम जहाँ भी रहो
खुश रहो
मुस्कुराती रहो
एक ग़ज़ल की तरह
बेशक ज़ुबां से निकली वह नेक दुआ तुम थी
आसमान से उतरी फरिश्तों की सना तुम थी

कई दिनों के बाद आखिरकार
आज तुम्हारी याद आ ही गई मुझे
जब मैंने उस लाल रंग की
छोटी सी डायरी का आखिरी पन्ना खोला
जिस पर कुछ लिखा था तुमने अपना नाम
मेरे पिछले बर्थ डे पर ।।

“क्यां है इश्क़”

kyan hai ishq

कोई भी नहीं समझा अब तक, के क्यां है इश्क़
दर्द से नजात है, या फिर दर्द की दुआ है इश्क़

ना कोई है शर्त इसमें, ना है कोई क़रार इसमें
दिल को जो बैचैन कर दे, हाँ वोह अदा है इश्क़

नज़ीर क्यां पेश की जाए, खुद बेनज़ीर है वोह
शहद की तरह कुछ मीठी, उर्दू ज़ुबाँ है इश्क़

कायनात के हर ज़र्रे में, नुमायाँ है नक़्श जो
इंतिहा से लेकर इब्तिदा, सारा जहाँ है इश्क़

हुए हो चाहे इसके यहाँ, दीवाने कई ‘इरफ़ान’
पाया वोह सबने ही, वफ़ा ज़फ़ा और शफ़ा है इश्क़ ।।
————————————————
#RockShayar ‘Irfan’ Ali Khan

नजात – मुक्तिं
क़रार – अनुबंध
नज़ीर – उदहारण
बेनज़ीर – अनुपम, बेजोड़
ज़ुबाँ – भाषा
कायनात – सृष्टि
ज़र्रा – कण
नुमायाँ – प्रकट
नक़्श – चेहरा
इंतिहा – अंत
इब्तिदा – आरम्भ
वफ़ा – विश्वास भाव
ज़फ़ा – अन्याय
शफ़ा – इलाज

“तेरी चाहत जाविदां सी लगती है “

symbol-of-love-01

रंजे उल्फ़त वो रिदा सी लगती है
तेरी चाहत जाविदां सी लगती है

ज़र्रा ज़र्रा यहाँ, है बेक़रार कब से
हर शै तुझ पे फ़िदा सी लगती है

तू ही मेरी ज़ात, तू ही मेरे जज़्बात
दिल को तू मेरे जिदा सी लगती है

ना मिलो जिस घङी, ख़्यालों में तुम
वो घङी तो अलविदा सी लगती है

लब कहे जब भी, हौले से ‘इरफ़ान’
दिल को रूहानी निदा सी लगती है

 #RockShayar

—-शब्द सन्दर्भ—-

रंजे उल्फ़त – प्रणय पीङा, विरह वेदना
रिदा – ओढने की चादर
जाविदां – अमर, कभी ना खत्म होने वाली
ज़र्रा – कण
बेक़रार – अधीर
शै – वस्तु
फ़िदा – मुग्ध
ज़ात – व्यक्तिगत
जज़्बात – भावना
जिदा – स्वच्छ करने वाली
ख़्याल – कल्पना, विचार
अलविदा – बिछुङना
लब – होंठ  
रूहानी – आध्यात्मिक
निदा – पुकारना, आवाज़ देना

“ये मुहब्बत है, आँखों से पढी जाये इरफ़ान”

DSCN5466

चाहकर भी हमसे, नज़रे मिला ना पाओगी
बाद दीदार के यूँ, पलकें झुका ना पाओगी

दबे हो जज़्बात चाहे, दिल के कोनों में कहीं
इश्क़ दा एहसास, दिल में छुपा ना पाओगी

कोशिश कर के देख लेना, वादा है ये मेरा
रूमानी वो यादें, रूह से मिटा ना पाओगी

अलहदा है ज़रा, अंदाज़ भी अल्फ़ाज़ भी
सुरमई वो निगाहें, हमसे हटा ना पाओगी

ये मुहब्बत है, आँखों से पढी जाये ‘इरफ़ान’
छुपा लो लाख यूँ, खुद से छुपा ना पाओगी

‪#‎RockShayar‬

“बेनज़ीर सी वो बातें”

vlcsnap-2014-12-18-01h02m00s123

बेनज़ीर सी वो बातें, रेशम सी वो रातें
दिल ढूँढता है फिर, मखमली मुलाकातें

शोख़ी भरा वो लहज़ा, रूह लगे जो अफ़ज़ा
आँखों ही आँखों में यूँ, मुझसे कहे बह जा

रूख़सार की वो हया, पलकों पर है बयां
नज़रे टकराते ही फिर, क़रार सब गया

ज़ुल्फ़ की घनेरी छाँव, सुकूं देता कोई गांव
रूख़ पे गिरे जब, लगे जैसे दरिया में नाव

साँसों की भीनी खुशबू, बहकाये जो आरज़ू
सितारों की चादर ओढ़े, हो बस मैं और तू

लबों का सुर्ख़ लम्स, सुबह का हो जैसे शम्स
लफ़्ज़ जो भी उतरे वो, लगे सारे उम्दा नज़्म

नाज़-ओ-अन्दाज़ वो, ख़ाहिश-ए-परवाज़ लिए
मयकशी सी दो निगाहें, गहरे सब राज़ पिए

बेनज़ीर सी वो बातें, रेशम सी वो रातें
दिल ढूँढता है फिर, सुनहरी कुछ यादें

‪#‎RockShayar‬

बेनज़ीर – अद्वितीय
लहज़ा – शैली
अफ़ज़ा – प्राणवर्धक
रूख़सार – गाल
ज़ुल्फ़ – बाल
रूख़ – चेहरा
सुर्ख़ – गाढा लाल
लम्स – स्पर्श
शम्स – सूर्य

“इश्क़ दा साया”

10689885_1401339516839087_2702791852094998770_n

ज़र्रे ज़र्रे में सदा, इश्क़ नुमायां
हर बशर यहाँ, इश्क़ दा साया

बरस रहा हैं हर सू, अब्र-ए-नूर
दामन में जिसके, सुकूं समाया

रूह से रूह का, तारूफ़ हैं ये
जुनून-ए-इश्क़, रब दा साया

उल्फ़त की बातें, रेशम सी रातें
आँखों की जुबां, और हमसाया

रेज़े रेज़े में सदा, इश्क़ नुमायां
हर नज़र यहाँ, इश्क़ दा साया

‪#‎राॅकशायर‬

ज़र्रा – कण
इश्क़ – प्रेम
नुमायां – प्रत्यक्ष, जाहिर
बशर – मनुष्य
साया- परछाई
सू – जगह, तरफ
अब्र – बादल
नूर – प्रकाश, रौशनी
तारूफ़ – परिचय
उल्फ़त – प्रेम
रेज़ा – कण

“कुछ कहना है मुझे अब तुमसे”

vlcsnap-2013-06-01-23h09m24s179

कुछ कहना है मुझे अब तुमसे
नहीं रहना यूँ चुप अब खुद से
तुमसे बेपनाह मुहब्बत करता हूँ
तुम पर बेइंतहा मैं अब मरता हूँ
शब के अंधेरों में तुम्हें पुकारता हूँ
दिन के उजालों में तुम्हें निहारता हूँ
नज़र आकर भी नज़र नहीं आती हो
दूर होकर यूँ कितना मुझे तड़पाती हो
तुम्हारे साथ कुछ पल जीना चाहता हूँ
तुम्हारे दर्द को मैं अब पीना चाहता हूँ
अल्फ़ाज़ सजाकर रोज तुम्हें याद करता हूँ
एहसास छुपाकर हर दिन ही आहें भरता हूँ
नहीं होकर भी कहीं तुम मुझमें कहीं हो
ज़ुदा होकर भी कहीं तुम मुझमें बसी हो
बस इतना कहना है मुझे ये तुमसे
ज़िंदा हूँ मैं हर पल, तेरे ख़्याल से

“बेनज़ीर हो तुम”

Poetry Wall Arts1331014167_152440558282239_589204630_n

नज़ीर क्यां पेश करू, खुद बेनज़ीर हो तुम
फ़क़त रूह-ए-दिल की, अब वज़ीर हो तुम

जी करे सुनता जाऊ, मैं सब बातें तुम्हारी
महफ़िल-ए-अदब की, नेक तक़रीर हो तुम

रुख पर लिखा है, पाकीज़ा सा इक कलाम
आयत-ए-कुरआन सी, वो तफ़सीर हो तुम

जलतरंग से बनी हुई, इश्क़ रंग में सनी हुई
रूह पतंग में बसी हुई, एक तसवीर हो तुम

इबादत में अक्सर, होता है दीदार तुम्हारा
दुआओं से हासिल हुई, मेरी तक़दीर हो तुम

हयात के सफ़र की, यूँ दास्तां है ‘इरफ़ान’
साँसों पर लिखी हुई, ज़िंदा तहरीर हो तुम

© रॉकशायर
(इरफ़ान अली खान)

नज़ीर – उदहारण
बेनज़ीर – अनुपम, बेमिसाल
फ़क़त – सिर्फ
रूह-ए-दिल – ह्रदय और आत्मा
वज़ीर – मंत्री
महफ़िल-ए-अदब – साहित्यिक सभा
तक़रीर – भाषण
रुख – चेहरा
पाकीज़ा – पवित्र
कलाम – लिखित रचना, गीत
आयत-ए-कुरआन – पवित्र ग्रन्थ कुरआन शरीफ में क्रमानुसार लिखे वाक्यांश
तफ़सीर – व्याख्या
इबादत – पूजा
दीदार – दर्शन
हयात – ज़िंदगी
तहरीर – लिखित दस्तावेज

“ग़ज़ल सा सुकूं कहूँ, या कहूँ नज़्म सा ख़ुमार”

906650_117461218451101_1892732150_o
ग़ज़ल सा सुकूं कहूँ, या कहूँ नज़्म सा ख़ुमार
मुझमें हर लम्हात यहाँ, तू ही तू अब बेशुमार

आसमां से उतरी है, फरिश्तों की इक जमात
नूर की बारिश से यूँ, कर रही वो मुझे सलाम

पलकों के पर्दे से, झांक रही दो आँखें गुलाबी
हया का वो सुर्ख़ हिज़ाब, देता है पहरा शबाबी

साँसे करती रहे सज़दा, बातों में है नज़ाकत
लबों को यूँ छूकर फिर, रातें हुई मेरी इबादत

निदा है उर्दू ज़ुबान सी, सुबह की अज़ान सी
रूह से आती रहती बस, खुशबू ज़ाफ़रान सी

सादगी है ज़ीनत तेरी, बंदगी इनायत तेरी
दिल पे मेरे लिखी हुई, ज़िंदगी इबारत तेरी

हुस्न से वाबस्ता, माहताब रूख़ पे लिए हुए
चाहत की वादियों में, यूँ आफ़ताब लिए हुए

फ़िज़ाओं में बहार तुमसे, हवाओं में है नमी
दुआओं में करार तुमसे, ख़लाओं में है कमी

मुहब्बत की अलामत ये, इश्क़ की नेअमत ये
फ़िरदौस से नाज़िल हुई, ख़ुदा की रहमत है ये

शबनम के कतरे सा, नरम ये एहसास तेरा
शोखियों में लिपटा हुआ, सर्द ये अंदाज़ तेरा

इस कदर शैदा हूँ तुझ पर, हर घड़ी हर पहर
नक़्श मैं तेरा, और मुझमें तू शाम-ओ-शहर

इश्क़ का जुनूं कहूँ, या कहूँ मुश्क़ का ख़ुमार
मेरे हर अल्फ़ाज़ में, तू ही तू अब बेशुमार

“एहसास-ए-इश्क़”

Titanic-3D-HD-Movie-Captures-10red_to_black_by_feeri_theme-d4no7qedghdh

एहसास वो तेरा, यूँ हर पल मुझे होने लगा
दूर होकर भी सदा, तू पास मेरे होने लगा

इश्क़ का ख़ुमार, इस कदर सर पे चढ़ा
रातों से मेरी, चैन-ओ-सुकूं सब खोने लगा

मुझमें मुझसा तो, कुछ भी अब ना रहा
जो भी था शख्स वो, सब तेरा होने लगा

जुड़ा है जब से ये, बावरा जो मन तुझसे
अंधेरों में कहीं, सवेरा वो इक होने लगा

दिल-ए-नादां की, बातों में यूँ आके फिर
हुआ था जो ना कभी, वो अब होने लगा

एहसास-ए-इश्क़ का, है बस इतना बयां
ना होकर तू यहाँ, मुझमें कहीं होने लगा

© इरफ़ान अली खान ‘रॉकशायर’

“इश्क़-ख़ुमारी”

vlcsnap-2013-07-08-23h42m37s224

कुछ इस कदर है छाई, इश्क़-ख़ुमारी
सांसों से आये बस, खुशबू तुम्हारी

अल्फ़ाज़, खुद-ब-खुद महकने लगे
दिल में उतर गई, वो शायरी तुम्हारी

हैरां है आज, खुद लफ़्ज़ तराश भी
देखकर मयकदा सी, आँखें तुम्हारी

चाँद तारें सब, करते रश्क तुमसे
गिरती है रूख़ पे, जब ये ज़ुल्फ़ें तुम्हारी

पल भर में गायब, हो जाती उदासी
याद आती है जब, वो बातें तुम्हारी

हो जाये बंजर, फिर से सब्ज़ाज़ार
उठती है जहाँ आहिस्ता, पलकें तुम्हारी

छुपा लो खुद को, कहीं भी ऐ नाज़नीन
महफूज़ है ग़ज़ल में, अब तस्वीर तुम्हारी

© RockShayar

“तारीफ”


10450222_718246628223930_2811744313753698321_o


रूख़ पे मासूमियत का पहरा
पलकों का रंग भी है सुनहरा
लबों पे ठहरी हुस्न की घटायें
आँखों से बयां होती है अदायें
तारीफ कहूँ इसे, या कुछ और
जो भी हो, ये बेहद खुशनुमा है
अन्दाज़ में कुछ अलग है बात
एहसास हो जैसे चाँदनी रात
सांसों में घुली रूह की वफ़ायें
निगाहों से पूरी होती है दुआयें
तारीफ कहूँ इसे, या कुछ और
जो भी हो, ये बेहद खुशनुमा है

© रॉकशायर

“शैदाई”

 

vlcsnap-2013-06-01-dgdg

शरीक हैं तेरा साया मुझमें इस कदर
ज़र्रे ज़र्रे में अब तू ही तू शाम-ओ-सहर

साँसों की खुशबू तेरे होने का एहसास
सोहबत यूँ पाकर ज़िंदा हुए अल्फ़ाज़

मुहब्बत कहूँ इसे या कहूँ मैं इबादत
इक रूह के लिए शैदाई मेरा किरदार

नुमाया हैं तेरा वज़ूद मुझमें इस कदर
ज़िस्म-ओ-जां में तू ही तू अब हर पहर..

आँखों की रंगत होश खोने का इक़रार
ख्वाबों पर हक़ीक़त से ज्यादा ऐतबार

चाहत कहूँ इसे या कहूँ मैं अक़ीदत
इक शख़्स के लिए दिल रहे बेक़रार

शामिल हैं तेरा अक्स मुझमें इस कदर
हर बशर में यहॉं तू ही तू शाम-ओ-सहर

 

“इब्तिदा-ए-इश्क़”

Rockstar-hyrh

तेरा दूर होकर भी मेरे पास होना
आँखों आँखों में वो सब कह देना
तन्हाई में रेशमी ख़्वाब बुन लेना
चाँदनी को रूख़ पर यूँ सजा देना
इब्तिदा-ए-इश्क़ का आलम हैं ये

ज़िस्म को छूकर रूह महकने लगी
पल पल हर पल साँसे बहकने लगी
तू जब मुस्कुराये खिल उठे बहार
खामोश लम्हे फिर जी उठे हर बार
मेरे सब अल्फ़ाज़ तुमसे ही ज़िंदा हैं
तेरा वो एहसास मुझमें यूँ जाविदां हैं

ज़ुदा होकर भी तेरा मेरे साथ होना
बातों बातों में यूँही हक़ जता देना
दिल में गहरे ज़ज्बात छुपा लेना
हयात को मेरी जन्नत बना देना
इब्तिदा-ए-इश्क़ का आलम हैं ये

“इक शख्स मुझे फिर जीना सीखा रहा”

10522108_673806789334581_2125167047_o

इक शख्स मुझे फिर जीना सीखा रहा
जागते सुनहरे कई ख्वाब दिखा रहा 

ज़ख्मो पर इश्क़ का मरहम लगाकर 
चाहत के मुझमें वो अरमां जगा रहा 

ख्यालों में मेरे हरपल महफूज़ होकर
मुहब्बत के फ़साने मुझमें सजा रहा 

तन्हाई मे हरदम यूँ साथ निभाकर 
मुलाकात में फिर वो नजरे चुरा रहा 

खुशीयों के चहकते लम्हे ओंढकर 
गमों की वोह तपती धूप हटा रहा 

उल्फत से अपनी मुझे नवाज़ कर 
शिद्दत से मेरे वो सब दर्द मिटा रहा

“कुछ इस तरह, नुमायाँ तू मुझमें” (Kuch is tarah, Numaya tu mujhmein)

Image

कितनी घनी है, ये जुल्फ़े तेरी Kitni ghani hai, ye zulfe teri    
साये में है इनके, बेइन्तहा सूकूं Saaye me hai inke, Beinteha Sukoon  
दो आँखें तक रही है, चुपके से Do Aankhe tak rahi hai, Chupke se  
जेसे कहना हो, शायद उन्हे कुछ Jese kahna ho, shayad unhe kuch  
नज़रो कि ज़ुबां, दिल समझता है Nazro ki zubaa, dil samajhta hai  
आहिस्ता बिखरती, मद्धम मुस्कान Aahista bikhrti, Maddhham muskan  
दामन में अपने, इश्क को लपेटे हुये Daaman me apne, Ishq ko lapete huye  
नाजुक डगर पर, अब चल रही है Nazuk dagar par, ab chal rahi hai  
काँपते हुये, घबराते हुये, शरमाते हुये Kaampte huye, Ghabrate huye, Sharmate huye
हया के सुर्ख लिबास में, सिमटते हुये Hayaa ke surkh libas me, simat te huye  
बिखर रही है, आज हर तरफ यहाँ Bikhar rahi hai, Aaj har taraf yahan  
हुस्न-ओ-ज़माल कि, दिलकश अदाये Husn-o-zamal ki, Dilkash adaye  
मुहब्बत में भींगकर, मन हो गया बावरा Muhabbat me bhigkar, Man ho gaya baawra
लफ्ज़ो को संग अपने, यूं डूबो रहा है Lafzo ko sang apne, yoon doobo raha hai  
इश्क के दरिया में, जेसे तूफान उठा हो Ishq ke dariya me, Jese toofan utha ho  
जब कभी, पहली बारिश शुरू होती है Jab kabhi, Pahli barish shuru hoti hai  
और सारा जहां, खिल उठता है फिर Aur sara jahan, khil uthta hai phir  
कुछ इस तरह, नुमायाँ है अब तू मुझमें Kuch is tarah, Numaya hai ab tu mujhme..

“चट्टानों के बगीचे में”

Image

चट्टानों के बगीचे में
इक बहार मिली थी मुझे 
वीरान जज़ीरे सा ये दिल
फिर से धड़कने लगा
कई अर्से से चुप सा बेठा
तन्हा दिल बात करने लगा
कभी आँखों से, कभी होंठो से, कभी लफ्ज़ो से 
अंदर छुपे ज़ज्बात जाहिर करने लगा है 
मगर थोडा डरता भी है
बीते हुए उस मंज़र का खौफ 
अब तक सुर्ख दीवारो पर लिपटा है 
लहू कि सोहबत में लाल भी हो चुका
पर कभी कभी वो स्याह रंगत 
फिर से आ जाती है
नादाँ दिल कि ये बेबसी
उसको दूर से बस देखना है
नज़दीक जाने से हिचकिचाता
कुछ जख्मो के निशान
अभी भी कायम है दिल पर 
शायद इसीलिए आज मैं 
उस खुशबू को महसूस करता हुआ 
अल्फ़ाज़ों के दरमियाँ यूँ खो रहा हूँ 
जेसे उस दिन खो रहा था
चट्टानों के बगीचे में
जब इक बहार मिली थी मुझे