“Diploma की वो Dynamic यादें”

Dedicated to all Ajmer Polytechnic Alumni…

Polytechnic Diploma की वो Dynamic यादें
बहुत याद आती हैं, College Time की वो बातें।

Schooling के बाद शुरु हुआ, Life का Brand New एक सफ़र
राजकीय बहुतकनीकी महाविद्यालय, माखूपुरा अजमेर शहर।

शुरु-शुरु में तो Ragging के नाम से ही डर लगता था
और बाद में तो फिर Hostel ही अपना घर लगता था।

बात जब Hostel की आ जाए तो उसे याद करते हैं हम
अपने उस कोहिनूर Hostel को कैसे भूल सकते हैं हम।

Advocate अय्यूब भाई साहब का था वो
Students के ख़्वाबों का आशियाँ था वो।

हर शनिवार शाम को ही हम, TV अपने कब्जे में ले लेते थे
और फिर पूरा Sunday, Hollywood Movies देखा करते थे।

सभी शाखाओं के अपने-अपने अलग भवन होते थे
6 के 6 Semester हम फाइलों का वज़न ढ़ोते थे।

क़रीब ही Canteen में चाय-समोसा मिलता था
एक इतवार को ही तो सबका चेहरा खिलता था।

अगर किसी के किसी Subject में Back आ जाती थी
तो ये ज़िंदगी कई दिनों तक उसका मातम मनाती थी।

College में सबकी अपनी, कोई न कोई Setting थी
हम जैसे कुछ तन्हा भी थे, Poor जिनकी Rating थी।

NCC Camp में तो भय्या, हालत ही खराब हो जाती थी
Valentines Day पर ज़िंदगी मानो गुलाब हो जाती थी।

सात Number Tempo हो या साड्डे यार दी Bike
कितनी हसीन थी वो दोस्तों, अपनी College Life.

College के Gate के उस तरफ, ज़िंदगी हमें हँसाती थी
College के Gate के इस तरफ, ज़िंदगी हमें नचाती है।

Engineering Diploma की वो धाकड़ यादें
बहुत याद आती हैं, Campus वाली वो बातें।।

© RockShayar

rockshayar.wordpress.com

#ObjectOrientedPoems(OOPs)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s